" /> डॉक्टरों ने गर्भवती को दो बार लौटाया : महिला ने घर में दिया बालक को जन्म

डॉक्टरों ने गर्भवती को दो बार लौटाया : महिला ने घर में दिया बालक को जन्म

एक सप्ताह में मध्यवर्ती अस्पताल की दूसरी निंदनीय घटना
कहते है डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप होता है। उल्हासनगर में मध्यवर्ती अस्पताल के डॉक्टरों की लापरवाही से यह सम्मानित पेशा कलंकित हो रहा है। यहां के डॉक्टरों की हरकतों के कारण एक बार फिर यह अस्पताल सुर्खियों में आ गया है। पिछले सप्ताह इसी अस्पताल में पत्रकार की 23 वर्षीय बेटी की मौत का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ कि एक गर्भवती महिला को डॉक्टरों ने प्रसूति का समय नहीं आने का हवाला देकर दो बार घर भेज दिया जबकि घर पहुंचने पर उसकी प्रसूती हो गई। उसने एक बालक को जन्म दिया।

बता दें कि उल्हासनगर मध्यवर्ती अस्पताल डॉक्टर लापरवाही की सारी हदें पार कर रहे हैं। गत दिनों सम्राट अशोक नगर में रहनेवाली प्रणिता की मौत का गम अभी लोग भूले भी नही थे कि उसी परिसर में रहनेवाली एक 26 वर्षीय महिला के मामले में एक बार फिर डॉक्टरों का निर्दयी रूप देखने को मिला है। प्रसूति पीड़ा से परेशान महिला लॉक डाउन में पति के साथ दो किलोमीटर पैदल चलकर किसी तरह मध्यवर्ती अस्पताल पहुंची थी लेकिन डॉक्टरों ने प्रसूति का समय नहीं हुआ है, कहकर उसे घर भेज दिया। घर पहुंचने पर दोपहर में फिर महिला को पीड़ा हुई तो महिला किसी तरह उल्हासनगर स्टेशन से ऑटो पकड़कर दोबारा अस्पताल गई लेकिन अस्पताल के डॉक्टरों ने फिर उसे प्रसूति में अभी समय है कहकर वापस घर भेज दिया। दो बार डॉक्टरों द्वारा घर भेजने से हताश महिला जब दर्द से कराह रही थी तो पड़ोस की ३/४ बुजुर्ग महिलाओं ने महिला का सुरक्षित प्रसूती घर मे ही कराया। इसकी जानकारी मिलने पर स्थानीय समाजसेवक शिवाजी रगड़े ने अस्पताल में फोन कर जानकरी दी कि आपके द्वारा दो बार घर भेजी गई महिला ने बच्चे को जन्म दिया है। उसका नाल काटना व इंजेक्शन देना है। उसके बाद अस्पताल प्रशासन हरकत में आया और महिला को घर से अस्पताल में भर्ती किया। लॉक डाउन में डॉक्टरों की लापरवाही से महिला की जान भी जा सकती थी, जिसकी शिकायत शिवाजी रगडे ने ईमेल से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, आरोग्य मंत्री राजेश टोपे व आरोग्य विभाग को इसकी जानकारी दी। इस बारे में अस्पताल के शल्य चिकित्सक डॉ. सुधाकर शिंदे ने कहा कि हम मिटिंग में थे। महिला व उसके पति उनके पास गए थे। अस्पताल में ट्रेनिग ले रहे डॉक्टरों से मिलने में व्यस्त होने के कारण ये सब हुआ है। फिलहाल महिला व उसका बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।