ड्रग डीलरों के  रडार पर पॉश कॉलेज, छात्रों को छलने की चाह

मुंबई को नशीले जहर से बचाने के लिए मुंबई पुलिस की तमाम इकाइयां हरसंभव प्रयास कर रही हैं लेकिन नशे के सौदागर अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ये लोग नए-नए नाम और रूप में मादक पदार्थ पेश करके युवा पीढ़ी को नशे का आदी बनाने का प्रयास कर रहे हैं। नशे के सौदागर इसके लिए शहर के पॉश इलाकों में स्थित कॉलेजों में पढ़नेवाले छात्रों को टारगेट बना रहे हैं। कल बांद्रा-पश्चिम स्थित लिंकिंग रोड से ५ ड्रग्स तस्करों की गिरफ्तारी और ६१ लाख रुपए के एमडी ड्रग्स की बरामदगी इसका प्रमाण है।
बता दें कि खार पुलिस थाने के पीआई दया नायक को ड्रग्स डीलरों के आने की खबर मिली थी। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त मनोज शर्मा व डीसीपी परमजीत सिंह दाहिया के मार्गदर्शन तथा वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय मोरे के नेतृत्व में खार पुलिस ने नेशनल कॉलेज के पास भोर में ४ बजे जाल बिछाकर ३ संदिग्धों को हिरासत में लिया। संदिग्धों की तलाशी में १ किलो ५२६ ग्राम एमडी ड्रग्स पुलिस को मिली, जिसकी कीमत ६१,०४,००० रुपए बताई जा रही है। पीआई दया नायक ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में सचिन रमेश मुदलियार, अंधेरी-पूर्व स्थित एमआईडीसी इलाके का रहनेवाला है जबकि दूसरा आरोपी रोशन विजय कुमार पांडे कांदिवली-पूर्व स्थित पोइसर टेकड़ी इलाके का निवासी है। इस मामले में पकड़ा गया मुख्य अभियुक्त संजय कृष्णा पांडे, अंधेरी-पूर्व स्थित मोगरापाड़ा इलाके का निवासी है। संजय को इससे पहले दिल्ली पुलिस ने वर्ष २०१२ में मादक पदार्थों की तस्करी के मामले में गिरफ्तार किया था।