" /> ड्रोन प्रौद्योगिकी का कोलीवाड़ा में किया गया प्रदर्शन : मुंबई की घनी बस्तियों पर ड्रोन से नजर रखेगी पुलिस- गृहमंत्री अनिल देशमुख

ड्रोन प्रौद्योगिकी का कोलीवाड़ा में किया गया प्रदर्शन : मुंबई की घनी बस्तियों पर ड्रोन से नजर रखेगी पुलिस- गृहमंत्री अनिल देशमुख

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि लॉकडाउन में मुंबई की घनी बस्तियों पर पैनी नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे की मदद ली जाएगी और जल्द अत्याधुनिक ड्रोन पुलिस दल को मुहैया कराए जाएंगे। मुंबई के कोलीवाड़ा, धारावी,  भेंडीबाजार आदि जैसे भीड़भाड़ वाले और घनी आबादीवाले इलाकों में कोरोना संक्रमण व उसके फैलाव को रोकने के लिए पुलिस को अब आधुनिक ड्रोन की मदद मिलेगी। इस विशेष ड्रोन तकनीक की मदद से पुलिस सामाजिक दूरी बनाए रखने पर अमल करेगी। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने की उपस्थिति में कल कोलीवाड़ा क्षेत्र में इस ड्रोन प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन किया गया। गृह मंत्री ने कहा कि जनता और पुलिस की सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। इस आधुनिक तकनीक से पुलिस को काफी मदद मिल सकेगी। इस अवसर पर पुलिस उपायुक्त (कानून- व्यवस्था) विनय चौबे, पुलिस उपायुक्त (संचालन) प्रणय अशोक, पुलिस उपायुक्त (जोन 5)  नियती दवे और अन्य अतिरिक्त पुलिस आयुक्त सुनील कोल्हे, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त वीरेश प्रभु आदि अधिकारी उपस्थित थे।
कोरोना वायरस के संकट काल में सबसे बड़ी चुनौती लॉकडाउन में सोशल डेस्टेसिंग बनाए रखने और कानून-व्यवस्था पर नजर रखने की है। इस नए बड़े ड्रोन की मदद से पुलिस आबादी पर आसानी से और तेज गति से निगरानी कर सकती है। इसमें मौजूद एनाउंनेसमेंट सिस्टम के जरिए जनता को सूचना और निर्देश भी दिए जा सकते हैं। इसमें वीडियो रिकार्डिंग की सुविधा भी है, जिससे पुलिस को काफी मदद मिल सकेगी। हिंदुस्थान में औसतन 761 की जनसंख्या पर एक पुलिसवाला उपलब्ध है, जबकि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और गुजरात में 950 लोगों पर औसतन एक पुलिसकर्मी की उपलब्धता है, जिससे पुलिस प्रणाली पर बहुत अधिक दबाव है। इस आधुनिक तकनीक से निश्चित रूप से पुलिस को मदद मिल सकेगी।