ड्रोन से दहलाने की साजिश!, दंगे की तैयारी में बांग्लादेशी आतंकी

मुंबई सहित देशभर में अवैध ढंग से रह रहे बांग्लादेशी हिंदुस्थान की सुरक्षा के लिए किस कदर खतरनाक हो सकते हैं, इसका खुलासा बिहार एटीएस द्वारा पकड़े गए बांग्लादेशी आतंकियों से पूछताछ में हुआ है। ये आतंकी ड्रोन से बम गिराने की ट्रेनिंग लेकर हिंदुस्थान में दाखिल हुए थे। प्रमुख बौद्ध धर्मस्थलों को निशाना बनाकर ये आतंकी हिंदुस्थान में दंगे करवाना चाहते थे। इसी सिलसिले में पटना पहुंचने से पहले वे मुंबई, पुणे सहित पश्चिम बंगाल के नादिया, सिलीगुडी, केरल, हैदराबाद, गया और दिल्ली गए थे। महाराष्ट्र एटीएस ने बिहार एटीएस से मिले इनपुट के आधार पर पुणे इनके दो साहियों को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि बिहार एटीएस ने पटना जंक्शन से खैरुल मंडल और अबु सुल्तान नामक बांग्लादेशी आतंकियों को पिछले दिनों गिरफ्तार किया था। खैरुल और सुल्तान से पूछताछ में सनसनीखेज खुलासे हुए हैं। खैरुल ड्रोन से हमले की तकनीक से भलीभांति वाकिफ था। उसने ड्रोन से आतंकी हमला करने की तकनीक बांग्लादेश में सीखी थी। जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन (जेएमबी) के संस्थापक सदस्यों में शामिल खैरुल को इसमें संगठन से जुड़े एक इंजीनियर ने मदद की थी। पूछताछ के दौरान खैरुल ने यह भी खुलासा किया कि ड्रोन का परीक्षण पूरी तरह सफल रहा था। जांच से जुड़े अधिकारियों को अशंका है कि खैरुल हिंदुस्थान में आतंकी वारदात के दौरान ड्रोन का इस्तेमाल कर सकता था। यदि ऐसा करने में वह कामयाब होता तो आतंकी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते थे। खैरुल से मिली जानकारी के बाद महाराष्ट्र एटीएस ने १९ वर्षीय श्रीयात अनवारुल हक मंडल को पुणे के चाकण स्थित खलुंबरे इलाके से पकड़ा है। खुद को पश्चिम बंगाल के नादिया जिले निवासी बतानेवाला श्रीयात प्रतिबंधित बांग्लादेसी आतंकी संगठन जेएमएम तथा इस्लामिक स्टेट ऑफ बांग्लादेश का सदस्य बताया जा रहा है। बिहार एटीएस खैरुल मंडल और अबु सुल्तान के हिंदुस्थान में मौजूद नेटवर्क को खंगाल रही है ताकि और आतंकियों को दबोचा जा सके।

विधिवत दी गई है ट्रेनिंग
जानते हैं हमले की तकनीक
हुआ था सफल परीक्षण