ड्रोन से होगा हवाई सर्वे पांचवीं-छठी रेल लाइन, परियोजना को मिलेगी रफ्तार

एमयूटीपी-३ए परियोजना के अंतर्गत आनेवाले बोरीवली-विरार पांचवीं-छठी रेल लाइन और कल्याण-बदलापुर के बीच बिछाई जानेवाली तीसरी-चौथी रेल लाइन के काम को जल्द ही गति मिलनेवाली है। मुंबई रेल विकास कार्पोरेशन (एमआरवीसी) इन परियोजनाओं से जुड़े कामों के लिए ड्रोन से हवाई सर्वे करने जा रही है। एमआरवीसी के अधिकारियों के अनुसार ड्रोन से सर्वे करने की प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई है। अधिकारियों के अनुसार जून में ड्रोन सर्वे पूरा कर लेने के बाद ग्राउंड सर्वे किया जाएगा। सर्वे का काम निजी एजेंसी करेगी।
बता दें कि मुंबई सेंट्रल और बोरीवली में छठी रेल लाइन का काम अभी प्रगति पर है, जबकि बोरीवली से विरार के बीच केवल ४ रेल लाइन है, जिस पर लोकल और मेल एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन होता है। रेलवे की योजना के मुताबिक बोरीवली-विरार के बीच पांचवीं-छठी रेल लाइन तैयार हो जाने पर लोकल और मेल एक्सप्रेस ट्रेनों के परिचालन के लिए स्वतंत्र कॉरिडोर मिल जाएगा। साथ ही स्वतंत्र मार्ग मिलने से लोकल सेवाओं में भी वृद्धि होगी। बोरीवली से विरार पांचवीं-छठी लाइन परियोजना २६ किमी की है। इस परियोजना की कुल लागत २,१८४ करोड़ रुपए है, वहीं एमयूटीपी-३ए परियोजना के अंतर्गत कल्याण-बदलापुर रूट पर तीसरी और चौथी रेल लाइन का निर्माण होना है। वर्तमान में कल्याण-बदलापुर रूट की दो लाइनों पर कल्याण और कर्जत की ओर मालगाड़ी, मेल एक्सप्रेस और लोकल सेवाओं का परिचालन होता है। इस पर बदलापुर, अंबरनाथ, उल्हासनगर के शहरी इलाकों में रहनेवाले नागरिकों को कल्याण से मुंबई की ओर सफर करने के लिए विशेष उपनगरीय रेल मार्ग की आवश्यकता दशकों से है। वर्तमान में अंबरनाथ, बदलापुर, कर्जत, खोपोली से ट्रेनों का परिचालन होता है। कल्याण-बदलापुर मार्ग पर अतिरिक्त रेल लाइन न होने से रेलवे सेवाओं में बढ़ोत्तरी करने में असमर्थ है। कल्याण से बदलापुर के बीच कुल १४ किमी की रेल लाइन बिछाई जानी है। इस परियोजना की कुल लागत १,५१० करोड़ रुपए है।
एमआरवीसी के प्रवक्ता संजय सिंह का कहना है कि ड्रोन से सर्वे करने की टेंडरिंग प्रक्रिया जारी है। जल्द ही ड्रोन सर्वे किया जाएगा। यह सर्वे होने के बाद ग्राउंड सर्वे होगा। आशा है कि जून में हम बोरीवली-विरार और कल्याण-बदलापुर रेल लाइन के लिए सर्वे का काम पूरा कर लेंगे।