ढोकाली की काली रात!, सीवेज टैंक में ३ मरे, ५ की हालत गंभीर

गुरुवार की मध्यरात्रि ठाणे स्थित ढोकाली के लिए काली रात साबित हुई। ढोकाली नाका स्थित प्राइड रेजीडेंसी नामक इमारत के पास बना सीवेज टैंक मजदूरों के लिए काल साबित हुआ। टैंक की सफाई करने उतरे मजदूरों में से ३ मजदूरों की जहां मौके पर ही मौत हो गई, वहीं ५ मजदूरों को घायल अवस्था में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम हेतु सिविल अस्पताल में भेजा गया है। सभी मृत मजदूर हरियाणा के रहनेवाले थे। वे काम की तलाश में भाइंदर आए थे। सफाई ठेकेदार अजय वगुल ने इन मजदूरों को टैंक की सफाई करने के लिए बुलाया था।
१३० घनमीटर व्यास के टैंक में ८ सफाई मजदूरों को उतारा गया था। इस हादसे में मरनेवाले मजदूरों के नाम अमित पुहाल, अमन बादल व अजय बुमबक हैं। वहीं इस हादसे के शिकार जिन मजदूरों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है, उनके नाम हैं विजेंद्र हटवाल, मंज्जित, जसबीर पुहाल, रुमर पुहाल व अजय पुहाल। हादसे की खबर मिलते ही मनपा आपत्ति व्यवस्थापन विभाग, दमकल विभाग के अधिकारी तथा कर्मचारी मौके पर पहुंच गए और युद्ध स्तर पर बचाव अभियान शुरू कर दिया जिससे पांच मजदूरों की जान बच गई।


ढोकाली में एक सीवेज टैंक में परसों रात सफाई के लिए उतरे ३ मजदूरों की मौत से ठाणे दहल गया। ये मजदूर परसों रात सफाई के लिए टैंक में उतरे थे। कुल ८ मजदूर टैंक में उतरे थे जिनमें से ५ को गंभीर अवस्था में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस घटना को लेकर ठाणे के तमाम मजदूर संगठन गोलबंद हो गए हैं। उनमें भारी रोष है। उन्होंने मनपा प्रशासन से मृतकों के परिजनों को एक करोड़ तथा घायलों को ५० हजार मुआवजा देने की मांग की है। उनकी मांग है कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं न हो, इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएं। दूसरी तरफ मनपा प्रशासन ने इस मामले में किसी तरह का मुआवजा देने से इनकार कर दिया है। प्रशासन का कहना है कि यह निजी ठेकेदार का मामला है, मनपा का इससे कुछ लेना-देना नहीं है।

ठेकेदार जिम्मेदार, शव लेने से इनकार
मजदूर संगठनों ने मृतक सफाई मजदूरों के परिजनों को लेकर कापुरबावड़ी पुलिस थाने का कल घेराव किया। उनका कहना था कि रात के १२ बजे अंधेरे में सफाई मजदूरों को बिना सुरक्षा के सीवेज टैंक में उतारना घोर लापरवाही का मामला बनता है इसलिए ठेकेदार के विरुद्ध गैर इरादत हत्या का मामला दर्ज किया जाए। दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि इस घटना को लेकर आकस्मिक मौत का मामला दर्ज किया गया है। जांच करने के बाद अगर ठेकेदार की लापरवाही सामने आती है तो उसके विरुद्ध गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया जाएगा। हालांकि कुछ पुलिस सूत्रों का कहना है कि ठेकेदार को पुलिस ने हिरासत में लिया है पर अभी तक गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज नहीं किया है। पुलिस एक निश्चित प्रोसीजर पूरा करने के बाद ही गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज करेगी। फिलहाल ठेकेदार का गिरफ्तार होना निश्चित है। इस संबंध में अस्पताल प्रशासन का कहना है कि अभी तक शवों के पोस्टमार्टम का काम चल रहा है। शवों को लेने से इनकार करने की बात अभी तक हमारे सामने नहीं आई है।

आधी रात मजदूर टैंक में उतारे गए
सुरक्षा का कोई बंदोबस्त नहीं था
हादसे से ठाणे के मजदूरों में रोष
परिजनों का शव लेने से इनकार
अस्पताल-थाने के सामने प्रदर्शन
ठेकेदार पर मामला दर्ज करने की मांग
मृतकों को मुआवजा देने की मांग