तंबाकू खाया तो होगा जुर्माना!

अब मुंबई पुलिस के हवलदार और मनपा अधिकारी भी जल्द ही सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करनेवाले व प्रतिबंधित तंबाकूयुक्त पदार्थों की बिक्री करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश के सभी राज्य के सचिव को पत्र लिख सिगरेट व अन्य तंबाकूयुक्त पदार्थ (कोटपा) अधिनियम के तहत सख्त कार्रवाई करने का अधिकार देने की बात कही है।
बता दें कि देश में हर वर्ष तंबाकू सेवन की वजह से १३ लाख से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। वहीं बड़ी संख्या में लोग मुंह वैंâसर की चपेट में आ रहे हैं। संबंध हेल्थ फाउंडेशन के ट्रस्ट्री संजय सेठ के अनुसार कोटपा अधिनियम के तहत केवल सब इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी को ही कार्रवाई करने का अधिकार है, लेकिन हिमाचल प्रदेश ने अपने राज्य में हवलदारों को भी तंबाकूयुक्त पदार्थों की बिक्री करनेवालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार दिया है। हिमाचल प्रदेश में काफी सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिले हैं जिसके बाद केंद्र ने सभी राज्यों को उक्त सुझाव दिया है। टाटा अस्पताल व वॉइस ऑफ टोबैको विक्टिम के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. पंकज चतुर्वेदी ने तंबाकू को धीमा जहर करार दिया है। कैंसर की चपेट में आनेवाले अधिकतर मरीज किसी न किसी प्रकार के तंबाकू पदार्थों का सेवन करते हैं। आंकड़ों के अनुसार हिंदुस्थान में १३ से १५ वर्ष के ४ प्रतिशत बच्चे सिगरेट और १२ फीसदी बच्चे तंबाकू उत्पादों का रोजाना सेवन करते हैं। शहर के स्कूल और कॉलेज समेत पूरे महानगर की पान की टपरी समेत किराना दुकानों पर खाद्य पदार्थ और तंबाकू उत्पादों की एक साथ बिक्री होती है। ऐसे में विक्रेताओं में नकेल कसने के लिए यह कदम उठाना बहुत जरूरी है।