" /> तालाब में मछली पकड़ने गए, जान गंवा बैठे : पिता-पुत्र सहित तीन की डूबने से मौत

तालाब में मछली पकड़ने गए, जान गंवा बैठे : पिता-पुत्र सहित तीन की डूबने से मौत

एक का शव बरामद, दो की तलाश जारी
2018 में मामा की भी हुई थी डूबने से मौत

मछली पडकने गए पिता-पुत्र समेत तीन लोगों की कल तालाब में डूबने से मौत हो गई। तीनों की पहचान सानू सडवाल (35), दुर्गेश सडवाल (12), सौम्या खंडारे (35) के रूप में की गई है। स्थानीय निवासियों की सूचना पर पुलिस और वसई-विरार अग्निशमन दल के अधिकारी शव की तलाश में जुट गए हैं।
नालासोपारा-पश्चिम के आदिवासी पाड़ा में रहनेवाले सानू सडवाल अपने परिवार के साथ रहते थे। शुक्रवार सुबह तकरीबन 11 बजे सानू का पुत्र दुर्गेश, पड़ोसी सौम्या के साथ घर के पास बने तालाब में मछली पकड़ने गया था। मछली पकड़ने के दौरान सौम्या और दुर्गेश डूबने लगे। उन्हें डूबता देख इलाके के लोग जोर-जोर से चिल्लाने लगे। लोगों की आवाज सुनकर सानू ने अपने पुत्र दुर्गेश को बचाने के लिए तालाब में छलांग लगा दी लेकिन इस प्रयास में वह भी डूबने लगा। उस वक्त किसी ने उनकी मदद नहीं की नतीजतन तीनों डूब गए। आदिवासी पाड़ा के लोगों ने वसई-विरार अग्निशमन दल और स्थानीय पुलिस को सूचित किया। मौके पर पहुंचे अग्निशमन दल के कर्मचारियों ने घंटों मशक्कत के बाद दोपहर में दुर्गेश सडवाल का शव बरामद किया है। हालांकि अभी तक सौम्या और सानू की तलाश जारी है। गौरतलब है कि आदिवासी पाड़ा स्थित उक्त तालाब में वर्ष 2018 में सानू सडवाल के मामा की डूबने से मौत हो गई थी। स्थानीय निवासियों ने बताया कि अब तक इस तालाब में आधा दर्जन लोगों की इस तालाब में डूबने से मौत हो चुकी है। स्थानीय लोगों ने कई बार मनपा प्रशासन से तालाब के किनारे लोहे की बाउंड्री लगाने की सिफारिश की है।