तुरंत डिलीट करें!, स्मार्ट फोन के २२ क्लिक फ्राॅड, बहरुपिया बनकर करते हैं घुसपैठ

क्या बच्चा, क्या बुजुर्ग और क्या युवा, स्मार्टफोन आज हर हाथ की जरूरत बन चुके हैं। सोशल मीडिया के आगमन के बाद तो घर से लेकर दफ्तर और यहां तक की रास्ते में चलते हुए भी लोग स्मार्टफोन्स में खोए मिल जाते हैं। तरह-तरह के ऐप्स ने इस र्स्माटफोन की दुनिया को और भी हसीन बना दिया है। मगर अकसर कुछ दिनों बाद लोग अपने फोन से परेशान नजर आते हैं। फोन का धीमा हो जाना और बैटरी का जल्द खत्म हो जाना कुछ ऐसी बीमारियां हैं जो हर किसी के फोन को कुछ समय बाद सताती हैं। क्या आप जानते हैं कि इसकी प्रमुख वजह क्या है? इसकी प्रमुख वजह कुछ ऐप्स हैं जो चुपके से आपके स्मार्टफोन में घुसपैठ कर जाते हैं। ये एक तरह से बहरूपिए होते हैं जो वेश बदलकर फोन में दाखिल हो जाते हैं।
कुछ महीने पहले एक रिसर्च में ऐसे कई खतरनाक ऐप्स पाए गए थे। इनकी सूचना गूगल को दे दी गई थी और उसने प्ले स्टोर से इन्हें हटा भी दिया था। मगर इतने से भी बात नहीं बनी क्योंकि वहां भी ये फिर से बहरुपिया बनकर घुस गए। आम तौर पर गूगल प्ले स्टोर से किसी भी ऐप्स को डाउनलोड करना सेफ माना जाता है। पर इन ऐप्स के वेश बदलकर वहां घुसपैठ करने से खतरा बढ़ गया है। इनमें से कुछ ऐप्स हैं स्नेक अटैक, मैथ सॉल्वर, शेप शॉर्टर, टेक ए ट्रिप, मैग्निफ-आई, जॉइन अप, जॉम्बी किलर, स्पेस रॉकेट, नियॉन पॉन्ग, जस्ट फ्लैशलाइट आदि। ऐसे ऐप्स के कारण कई बार अचानक फोन के स्क्रीन पर विज्ञापन दिखाई देने लगते हैं।

आपके हाथ में मौजूद स्मार्टफोन में कई ऐप्स होंगे। पर सावधान, इनमें कुछ खतरनाक ऐप्स भी होंगे जो आपके फोन को बीमार बनाते हैं। इन खतरनाक खलनायकों को अपने फोन से तुरंत डिलिट करें वरना फोन परेशानी देने लगेगा। जानकारी के मुताबिक ऐसे २२ ऐप्स हैं। गूगल प्ले स्टोर से ऐप इंस्टॉल करने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि सभी वेरिफाइड और सेफ ऐप्स मिलते हैं।
गूगल की एक बड़ी जिम्मेदारी यह भी है कि प्ले स्टोर पर कोई स्वैâम ऐप न पहुंच सके। यूं तो गूगल अपना काम ठीक से करता है लेकिन इसके बावजूद कई ऐप्स प्ले स्टोर तक पहुंचने का तरीका तलाश ही लेते हैं। गूगल समय-समय पर ऑडिट करके और बाकी तरीकों से ऐसे ऐप्स का पता चलने पर उन्हें प्ले स्टोर से हटाता रहता है।

ऐसे में समस्या यह है कि जो यूजर्स ऐप डाउनलोड कर चुके हैं, उनके फोन में ऐप मौजूद रहता है और नुकसान पहुंचाता रहता है। सुरक्षा के लिहाज से स्मार्टफोन को नुकसान पहुंचाने के साथ ही ऐसे ऐप्स बैटरी भी तेजी से खत्म करते हैं। साइबर सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स ने गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद ऐसे २२ लोकप्रिय ऐप्स का पता लगाया है जो स्मार्टफोन्स के लिए खतरनाक हैं और उन्हें नुकसान पहुंचाते हैं। इन ऐप्स को २० लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। ऐसे ऐप्स को क्लिक-प्रâॉड ऐप्स भी कहा जाता है क्योंकि ये कुछ और करने का दावा करते हैं और बैकग्राउंड में कोई और कोड रन करते हैं। ऐसे सभी ऐप्स में बैकडोर होता है, जिससे ऐप्स यूजर के स्मार्टफोन को नुकसान पहुंचाने और हैकर्स की मदद करनेवाले फाइल्स डाउनलोड कर लेते हैं। आपको इन ऐप्स को तुरंत अपने स्मार्टफोन से हटा देना चाहिए,
ये हैं खतरनाक ऐप्स

-स्पार्कल फ्लैशलाइट (Sparkle FlashLight
-स्नेक अटैक (Snake Attack)
-मैथ सॉल्वर (Math Solve)
-शेप शॉर्टर Shape Sorter)
-टेक ए ट्रिप (Take A Trip)
-मैग्निफआई (Magnifeye)
-जॉइन अप (Join Up)
-जॉम्बी किलर् (Zombie Killer)
-स्पेस रॉकेट (Space Rocket)
-नियॉन पॉन्ग (Neon Pong)
-जस्ट फ्लैशलाइट (Just Flashlight)
-टेबल सॉकर (Table Soccer)
-क्लिफ डाइवर (Cliff Diver)
-बॉक्स स्टैक(Box Stack)
-जेली स्लाइस (Jelly Slice)
-एके ब्लैकजैक (AK Blackjack)
-कलर टाइल्स (Color Tiles)
-एनिमल मैच (Animal Match)
-रूलेट मेनिया (Roulette Mania)
-हेक्साफॉल (HexaFall)
-हेक्साब्लॉक्स
(HexaBlocks)
-पेयरजैप PairZap)
ये ऐप्स प्रâॉड क्लिक करवाकर ज्यादा ऐड दिखाते हैं और कई बार तो यूजर्स की होम स्क्रीन पर भी ऐड पॉप-अप होने लगते हैं। यूजर्स के स्मार्टफोन और बैटरी को नुकसान पहुंचाने के अलावा इन ऐप्स के जरिए प्रâॉड भी आसानी से किया जा सकता है। ये आपके फोन की जासूसी भी कर सकते हैं और सूचनाएं हैकर्स तक पहुंचा सकते हैं।
कंप्लेन के बाद गूगल ने प्ले स्टोर से हटाया था
नाम बदलकर फिर से आ गए हैं ये फ्राॅड ऐप्स
विज्ञापन दिखाने के साथ ही बैटरी खाते हैं
कुछ ऐप्स फोन की जासूसी भी करते हैं