तोल-मोल में झोल

दुकानदार के लिए ग्राहक भगवान समान होता है। ग्राहकों को उनकी मनपसंद चीजें सही से तौलकर और उसके सही मोल लगाकर देने की बजाय कुछ दुकानदार उन्हें लूटने और गुमराह करने का कार्य करते हैं। तोल-मोल में झोल करनेवाले दुकानदारों को राज्य के वैध मापन विभाग (एलएमओ) ने अच्छा पाठ पढ़ाया है। एलएमओ द्वारा की गई जांच में १०,५०३ प्रâॉड लोग नप चुके हैं।
बता दें कि एलएमओ द्वारा अप्रैल २०१८ से १९ तक में वजन में घपला करनेवाले ७,५५४ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है जबकि पैकिंग में आनेवाले सामानों पर एमआरपी न होने या एमआरपी से अधिक पैसे लेने व अन्य त्रुटि करनेवालों ४,४५४ के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। एमआरपी से अधिक पैसे लेनेवाले कुल १०४ लोगों पर मामले दर्ज किए गए हैं। हार्डवेयर आइटम्स की बात करें तो ६२८ विक्रेताओं, इंपोर्टेड सामानों से संबंधित प्रोडक्ट्स १५२, ४७ फेयर प्राइस शॉप, ४१ सिगरेट व अन्य तंबाकू सामग्री और ५८ आइस क्रीम पार्लरवालों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वजन में घपला करनेवाले १२९२ सब्जी, फल, मच्छी और मांस विक्रेताओं, ३०१ मिठाई दुकानदारों पर, ३७ एलपीजी विक्रेता और १४५ अन्य पैकिंग में आनेवाली सामग्रियों के विक्रेताओं पर मामला दर्ज किया गया है। एलएमओ के डिप्टी कंट्रोलर शिवजी काकड़े ने बताया कि सबसे अधिक शिकायतें हमें डेरी प्रोडक्ट्स को लेकर मिलती हैं। उक्त लोगों पर कार्रवाई कर हमने ८,४४,००० रुपए जुर्माने के रूप में वसूले हैं। हमारी लोगों से अपील है कि वे कोई भी प्रोडक्ट एमआरपी पर ही खरीदें। यदि कोई ग्राहकों को लूटता है तो हमें शिकायत करें उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।