दस लाख बोगस राशन कार्ड रद्द, तीन लाख मीट्रिक टन अनाज की बचत

राज्य सरकार द्वारा ऑनलाइन व्यवहार और कंप्यूटरीकरण के कारण अन्न व आपूर्ति विभाग में पारदर्शकता आई है और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा है। यही कारण है कि तकरीबन दस लाख बोगस राशन कार्ड रद्द करने से साढ़े तीन लाख मीट्रिक टन अनाज की बचत हुई है। यह दावा अन्न व आपूर्ति मंत्री गिरीश बापट ने किया है। ग्राहकों की हितों की रक्षा के लिए बनाए गए कानून का सकारात्मक रूप से उपयोग करने की जिम्मेदारी ग्राहक कार्यकर्ताओं को पूरी करनी चाहिए। अब आगे से टिकट बुकिंग तथा मोबाइल रिचार्ज जैसी सुविधाएं भी राशन दुकान पर उपलब्ध कराई जाएंगी। इसके अलावा राशन दुकानदारों की पॉस मशीन के जरिए आधार एनॅबल्ड पे सिस्टम के तहत वैâशलेस व्यवहार भी किया जा सकेगा। इस मौके पर वैधमापन नियंत्रक अधिकारी संदीप विष्णोई ने कहा कि ग्राहकों के हित के लिए जो कानून है उसकी जानकारी आम जनता तक पहुंचाने का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यश बैंक की ओर से बैंक सेवा राशन दुकानदारों के जरिए शुरू की गई है। राशन दुकानों पर अब आगे पैसे भेजना, रकम की जांच करना आदि प्रक्रियाएं भी की जाएंगी। शुरुआत में यह सेवा १७ हजार राशन दुकानों पर शुरू की जाएगी।