" /> दागदार हुई खाकी! पहले प्रेम बढ़ाया फिर संबंध बनाया

दागदार हुई खाकी! पहले प्रेम बढ़ाया फिर संबंध बनाया

घाटकोपर पुलिस स्टेशन में तैनात पुलिस उप निरीक्षक यूसुफ शेख पर एक महिला से दुष्कर्म करने का आरोप लगा है। यह घटना सामने आने के बाद एक बार फिर खाकी पर दाग लग गया है। घाटकोपर पुलिस स्टेशन में दर्ज एफआईआर के मुताबिक, आरोपी यूसुफ शेख कुछ वर्ष पहले पीड़ित महिला से गोवंडी पुलिस स्टेशन में मिला था। महिला किसी बात को लेकर शिकायत कराने पहुंची थी। उसने महिला का नंबर लेकर उससे बातचीत शुरू की। धीरे-धीरे यह बातचीत प्यार में तब्दील हो गई। इसके बाद आरोपी महिला से संबंध बनाने की मांग करने लगा लेकिन बिना निकाह संबंध बनाने से महिला ने मना कर दिया। आरोपी ने महिला से निकाह करने की बात कही तो इस बात से महिला भी सहमत हो गई, फिर दोनों ने गोवंडी में निकाह कर लिया। आरोपी की पहली पत्नी होने के बावजूद उसने दूसरा निकाह किया। निकाह के कुछ महीने बाद तक सब कुछ ठीक चलता रहा लेकिन उसके कुछ दिन बाद आरोपी पुलिसवाला शराब के नशे में महिला के साथ मारपीट करने लगा। इसी दौरान उसने महिला के साथ कई बार अप्राकृतिक संबंध बनाए। इसी बीच महिला गर्भवती हो गई लेकिन आरोपी ने उसका गर्भपात करवा दिया। एक बार फिर महिला गर्भवती हुई और उसने एक बच्ची को जन्म दिया, वहीं आरोपी इस बच्ची के जन्म से खुश नहीं था। महिला भी यह सब बर्दाश्त करती रही। आखिरकार तंग आकर महिला उसके घर पर पहुंची लेकिन आरोपी ने उसको अपने पास रखने से इनकार कर दिया।
पुलिस उप निरीक्षक पर आरोप होने की वजह से पुलिस एफआईआर लेने में आनाकानी कर रही थी। इस दौरान महिला की मदद करने कुछ संस्थावाले आगे आए। इसके बाद मामला संज्ञान में लेते हुए घाटकोपर पुलिस ने आरोपी युसूफ के खिलाफ दुष्कर्म के सहित अन्य मामले दर्ज किए। पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि महिला की सुरक्षा उन सबकी जिम्मेदारी है लेकिन कुछ लोगों की वजह से खाकी एवं मुंबई पुलिस की छवि खराब हो रही है, ऐसे में आरोपी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। खबर लिखे जाने तक आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी। घटना की जांच जारी है।

मुंबईबाग में बदसलूकी
दक्षिण मुंबई के नागपाड़ा पुलिस के अंतर्गत मुंबईबाग में चल रहे प्रदर्शन के दौरान धरने पर बैठी महिला सुहाना शेख (बदला हुआ नाम) के साथ बदसलूकी करने के आरोप में पांच लोगों के खिलाफ नागपाड़ा पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इन सभी आरोपियों में से एक आरोपी पूर्व एसीपी रह चुका है।
पुलिस स्टेशन में दर्ज एफआईआर के मुताबिक आरोपियों ने सीएए, एनआरसी एवं एनपीआर के खिलाफ प्रदर्शन कर रही मुंबईबाग धरने में बैठी महिलाओं के साथ बदतमीजी की एवं इसी के साथ उन्हें जान से मारने की धमकी दी। आरोपियों ने महिलाओं के साथ धक्का-मुक्की भी की। मामला २० मार्च की रात करीब ९ बजे के आस-पास का है। आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा ३५४, ३५२, १४१, १४५ और १४७ के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। नागपाड़ा पुलिस घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज की मदद से घटना की जांच कर रही है।