दादर का चित्रा  थिएटर बंद, अब बचें ७५ सिंगल स्क्रीन थिएटर

दादर का ३६ वर्षों पुराना चित्रा थिएटर आखिरकार कल बंद हो गया। दर्शकों द्वारा मुंह फेरने से आर्थिक संकट में घिरने के बाद थिएटर मालिक दादर मेहता को कल इसे बंद करने का निर्णय लेना पड़ा। चित्रा के बंद होने से अब मुंबई में महज ७० से ७५ सिंगल स्क्रीन थिएटर बचे हैं, जिन पर आर्थिक संकट का साया छाया हुआ है।
बता दें कि सिंगल स्क्रीन थिएटर के बुरे दिन आने लगे हैं। कल दादर का चर्चित थिएटर चित्रा बंद होगा। ५५० दर्शकों की क्षमतावाले इस थिएटर में कल आखिरी शो ‘स्टूडेंट ऑफ दि इयर’ इस फिल्म का हुआ। इस थिएटर में ‘जंगली’, ‘शोले’, ‘दीवार’, ‘हीरो’ और ‘माहेर ची साड़ी’ जैसी फिल्मों का रौप्य और स्वर्ण महोत्सव मनाया जा चुका है। डी.बी. मेहता ने ५० के दशक में इस थिएटर की शुरुआत की थी। २० वर्ष पहले इस थिएटर का नवीनीकरण किया गया था। २०१४ में इस थिएटर का दोबारा नूतनीकरण किए जाने की बात मेहता ने कही। अब फिल्में ऑनलाइन देखने की सुविधा, पायरेसी, नई फिल्में विभिन्न चैनलों पर प्रसारित होने से दर्शकों ने सिंगल स्क्रीन से मुंह फेर लिया है। इन्हींr कारणों की वजह से सिंगल स्क्रीन थिएटर मालिकों को आर्थिक नुकसान होने की बात सिंगल स्क्रीन थिएटर्स ओनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष नितिन दातार ने कही।