" /> दादा की आईपीएल उम्मीद

दादा की आईपीएल उम्मीद

आईपीएल खिसकता जा रहा है। कोराना के बढ़ते प्रभाव का प्रतिकूल असर क्रिकेट की इस बड़ी स्पर्धा को भुगतना पड़ रहा है। तमाम अनिश्चितताओं के मध्य ताज़ी खबर ये है कि साल के अंत तक आईपीएल खेला जा सकता है। और ये उम्मीद भी बोर्ड अध्यक्ष सौरव गांगुली की है। दादा की इस उम्मीद ने क्रिकेट जगत में ख़ुशी बिखेर दी है। दरअसल, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) इन बंद दरवाजों के भीतर भी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) कराने के लिए तैयार है और वह इसकी संभावनाओं पर काम कर रहा है। बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने मसले को  लेकर बोर्ड के सभी सदस्यों को एक पत्र भेजा है। इस पत्र में कहा गया है कि बीसीसीआई आईपीएल की संभावनाओं पर काम कर रहा है। यदि यह टूर्नामेंट खाली स्टेडियमों में हो तब भी। देश में इस साल आईपीएल २९ मार्च से शुरू होना था, लेकिन कोरोना महामारी के चलते इसे अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करना पड़ा। यह भी संभावना है कि इस टूर्नामेंट का आयोजन अक्टूबर-नवंबर में होगा, लेकिन यह तभी संभव है जब आईसीसी ने टी-२० वर्ल्ड कप के शेड्यूल को आगे खिसका दिया जाए। अपने पत्र में सौरव गांगुली ने कहा कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के चलते सभी खेल गतिविधियां स्थगित हैं। ट्रेनिंग और प्रतियोगी क्रिकेट अगले दो माह में शुरू हो सकता है। उन्होंने कहा, “बीसीसीआई सभी राज्यों की क्रिकेट एसोसिएशंस के लिए कोविड-१९ स्टेंडर्ड ऑपरेशन प्रोसिजर का तैयार करने की सोच रहा है। ताकि सभी सदस्य इसके मानकों को अपना सके।” घरेलू क्रिकेट पर सौरव गांगुली ने कहा, “हमें आगे बढ़ना है। बीसीसीआई अगले क्रिकेट सीजन में प्रतियोगी क्रिकेट की प्रक्रिया शुरू करने की सोच रहा है। हम विभिन्न फॉर्मेट और विकल्पों पर सोच रहे हैं, ताकि विभिन्न घरेलू टूर्नामेंट हो सकें।”