दाहिनी कलाई पर ही बांधते हैं रक्षासूत्र

भाई-बहन के लिए रक्षाबंधन का त्योहार बेहद खास होता है। इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षासूत्र बांधती हैं, वहीं भाई अपनी बहन की रक्षा करने का वचन देता है। इस बार रक्षाबंधन का यह त्योहार १५ अगस्त को मनाया जाएगा। इस खास मौके पर बहनों को अपने भाई के सिर्फ दाहिने हाथ पर ही राखी बांधनी चाहिए। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार हिंदू मान्यताओं में दाएं हाथ को शुभ माना गया है। इसलिए पूजा-पाठ या शुभ काम करते वक्त हमेशा दाएं हाथ का ही इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा कहते हैं कि दाएं हाथ पर रक्षा सूत्र बांधने से ब्रह्मा विष्णु, महेश, लक्ष्मी, सरस्वती और दुर्गा सभी का आशीर्वाद मिलता है। इससे भाई और बहन के जीवन में खुशियां आती हैं। यही वजह है कि राखी हमेशा भाई की दाहिनी कलाई में ही बांधी जानी चाहिए।

राशि के अनुसार रखें रंगों का ध्यान : भाई के लिए होगा शुभ
राखी के दिन राशि के अनुसार रंगों का ध्यान रखकर राखी बांधना भाई के लिए शुभ होता है।
मेष- यदि आपके भाई की राशि मेष है तो इसका स्वामी मंगल हैं। ऐसे लोगों को लाल रंग की राखी बांधना शुभ माना जाता है।
वृष- इस राशि के लोगों का स्वामी शुक्र है। बहन अपने भाई को नीले रंग की राखी पहनाएं तो उनके लिए शुभ होगा। इससे उन्हें बेहतर परिणाम भी मिलेंगे।
मिथुन- इस राशि के स्वामी बुध है। ऐसे में आप चाहे तो अपने भाई को हरे रंग की राखी बांध सकते हैं। इससे सुख,समृद्धि और दीर्घायु होते हैं।
कर्क- इस राशि के स्वामी चंद्रमा है। ऐसे लोगों के लिए पीले या फिर सफेद रंग की राखी सही होगी। इस रंग से आपके जीवन में भरपूर खुशहाली आएगी।
सिंह- इस राशि के स्वामी सूर्य है। ऐसे लोग अपने भाई के लिए पीले-लाल रंग की राखी खरीदें। उनके लिए सही होगा।
कन्या- इस राशि के स्वामी बुध होते हैं। भाई को अपने बहन से हरे रंग की राखी बंधवानी चाहिए। इससे सभी प्रकार के ग्रह दोष दूर हो जाते हैं। भाई-बहन के बीच प्रेम बना रहता है।
तुला- इस राशि के लोग के लिए नीला या फिर सफेद रंग की राखी बांधना शुभ होगा। इस राशि के स्वामी शुक्र है।
वृश्चिक- वहीं इस राशि के भाई को अपने बहन से गुलाबी रंग की राखी बंधवानी चाहिए। उनके कुंडली के सभी दो। दूर हो जाते हैं।
धनु- इस राशि के लोगों के स्वामी बृहस्पति है। ऐसे लोगों को सुनहरे पीले रंग की राखी बंधवानी चाहिए या फिर पीले रंग की राखी बांधनी चाहिए।
मकर- इस राशि के स्वामी शनिदेव है। इन्हें न्याय का देवता कहा गया है। बहन अपने भाई को नीले रंग की राखी पहनाएं। इससे भाई-बहन का अटूट रिश्ता बना रहेगा।
कुंभ- इस राशि के स्वामी भी शनि माने जाते हैं। ऐसे में रक्षाबंधन पर गहरे हरे रंग का रूद्राक्ष का माला पहनना चाहिए। बहनों को अपने भाई के लिए राखी खरीदते वक्त इस बात का ध्यान रखना चाहिए।
मीन- दरअसल इस राशि के लोगों को सुनहरा हरा रंग का राखी खरीदना चाहिए। इसे शुभ माना जाता है। ऐसे लोगों के लिए पीले रंग की राखी शुभ मानी जाती है।
आजमाएं चमत्कारी उपाय
राखी के शुभ अवसर पर कुछ विशेष पूजन भी किया जाता है। कई क्षेत्रों में इस दिन अपने ग्रह दोष निवारण संबंधी उपाय भी आजमाए जाते हैं।
(१) जिन व्यक्तियों की कुंडली में शनि नीच या शत्रु राशि में या खराब स्थान पर बैठा हो, वे काले पत्थर के चौकोर टुकड़े पर शनि यंत्र खड़िया से बनाकर अपने से पर से ८ बार उतारकर कुएं में फेंक दें। फिर कभी उस कुएं का जल नहीं पीएं।
(२) कांच की एक बोतल में सरसों का तेल भरकर उसे कांच के कंचे से ही बंद कर अपने पर से उतारकर बहते जल के नीचे बहाएं।
(३) राहु खराब होने की स्थिति में ११ नारियल पानी वाले अपने पर से उतारकर बहते जल में डालें।
(४) चंद्र खराब होने की स्थिति में दूध से चंद्र को अर्घ्य देकर वहीं बैठकर ‘ॐ सोमेश्वराय नम:’ का यथाशक्ति जप करें। दूध का दान करें।
(५) जिन्हें कालसर्प दोष हो, वे सर्प पूजन करें तथा चांदी की डिब्बी में शहद भरकर वीराने में गाड़ें।
(६) माता सरस्वती का मंत्र ‘ॐ ऐं सरस्वत्यै नम:’ स्फटिक की माला पर यथाशक्ति जपें, लाभ होगा। चंद्र एवं राहु की शांति होगी।
(७) शत्रु शांति के लिए हनुमानजी को चोला चढ़ाएं तथा गुड़ का नेवैद्य, गुलाब के पुष्प चढ़ाएं।
(८) वटवृक्ष के नीचे लगा कोई पौधा, घर में लाकर गमले में लगाएं समृद्धि बढ़ेगी।
(९) नजर दोष हो तो फिटकरी का टुकड़ा नजर लगे व्यक्ति पर से उतारकर चूल्हे में जला दें, दोष दूर होगा।
(१०) किसी व्यक्ति ने पैसा लिया तो है, लेकिन दे नहीं रहा। सूखे कपूर स काजल बनाएं तथा एक कागज पर उसका नाम लिखकर भारी पत्‍थर के नीचे दबा दें, लाभ होगा।