दिग्गी राजा ने छीना  भाजपा का एजेंडा!

पंद्रह साल बाद चुनावी संग्राम में उतरे कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का अंदाज-ए बयां विरोधियों पर भारी पड़ता दिख रहा है। अपने बयानों के कारण सुर्खियों में रहनेवाले दिग्विजय अब बदले-बदले नजर आ रहे हैं। सियासत के चाणक्य कहे जानेवाले दिग्विजय सिंह ने भोपाल सीट पर भाजपा के सबसे बड़े एजेंडे पर वार कर भगवा ब्रिगेड की टेंशन बढ़ा दी है।
देश की सियासत का जाना-माना चेहरा दिग्विजय सिंह कभी अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहते थे। उनका निशाना संघ और भाजपा पर रहता था। दिग्विजय सिंह के बयानों को निशाना बनाकर विरोधी दल उन्हें हिंदू विरोधी कहते रहे। हिंदू आतंकवाद शब्द के जरिए देश की सियासत में खलबली मचा देनेवाले दिग्विजय सिंह ने अब बाजी पलट दी है। उन्होंने हिंदुत्व का ही ऐसा पासा फेंका है कि भाजपा चारों खाने चित है। हिंदू विरोधी होने का आरोप झेलनेवाले दिग्विजय सिंह ने भोपाल सीट पर नाम घोषित होने के बाद से अपने चेहरे को बदल भाजपा के सबसे बड़े एजेंडे में सेंध लगा दी है। दिग्विजय सिंह पूरी तरह हिंदुत्व की लीक पर चल रहे हैं। चुनाव मैदान में उतरने से पहले उन्होंने शंकराचार्य व जैन मुनि का आशीर्वाद लिया और फिर रायसेन की प्रसिद्ध और मन्नत वाली दरगाह पर सजदा कर अपने धर्मनिरपेक्ष होने का संदेश दिया। उसके बाद से उन्होंने मंदिरों के दर्शन शुरू किए। दिग्विजय सिंह २१ दिन में ५० से ज्यादा हिंदू धार्मिक आयोजन में शामिल हो चुके हैं। यह उनके सॉफ्ट हिंदुत्व की धार को धार दे रहा है।