" /> दिल्ली में 20 जून से रोजाना होंगे 18 हजार कोरोना टेस्ट

दिल्ली में 20 जून से रोजाना होंगे 18 हजार कोरोना टेस्ट

-गृहमंत्री द्वारा बुलाई सर्वदलीय बैठक में लिया निर्णय

दिल्ली में कोरोना से बिगड़ते हालातों पर नियंत्रण के लिए लगातार दो दिन हाई-प्रोफाइल बैठकें आयोजित हुईं। रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीव और उनकी कैबिनेट के साथ गृहमंत्री अमित शाह ने बैठक की। वहीं, सोमवार को उन्होंने सर्वदलीय बैठक बुलाई गई जिसमें आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, भाजपा और बसपा पार्टी के प्रमुख नेताओं ने भाग लिया। सभी से सुझाव मांगे। सभी नेताओं ने अपनी बातें भी अमित शाह के सामने रखीं। तभी सर्वसहमति से बैठक में तय हुआ कि आगामी 20 जून से दिल्ली में प्रतिदिन 18 हजार कोरोना टेस्ट कराए जाएंगे। इसके लिए कोरोना अस्पतालों की संख्या में भी बढ़ोतरी करने का निर्णय हुआ। बेड की संख्याओं को भी बढ़ाने का निर्णय लिया। कुछ रेलवे यार्डों को भी कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने का निर्णय हुआ।

बैठक में बोलते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए वह केंद्र सरकार के हर निर्णय को मानेंगे और दिल्ली में लागू करेंगे। उन्होंने कहा ये वक्त राजनीति करने का नहीं, समस्या से निपटने का है। वहीं, भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने दिल्ली सरकार पर नाकामी का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर सरकार कोरोना से निपटने के लिए ठीक से काम करती तो केंद्र को दखल नहीं देना पड़ता। वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अनिल चैधरी ने कहा कि केजरीवाल और भाजपा नेता कोरोना की आड़ में सिर्फ राजनीति कर रहे हैं। केंद्र सरकार को अगर इतनी ही चिंता थी तो अभी तक गृहमंत्री क्यों चुप बैठे थे।