दिव्यांग हो क्या?, दिव्यांग डिब्बे में रोज११ की घुसपैठ

सोमवार का दिन अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिन के रूप में मनाया गया, इसी दिन ठाणे रेलवे पुलिस द्वारा एक महत्वपूर्ण खुलासा भी किया गया। ठाणे रेलवे पुलिस ने बताया कि रोजाना ११ यात्री केवल ठाणे रेलवे स्टेशन पर अवैध रूप से दिव्यांग डिब्बे में यात्रा करते हैं। रेलवे पुलिस कार्रवाई करने से पहले इन लोगों से पहला सवाल यही करती है कि क्या तुम दिव्यांग हो?
ठाणे रेलवे पुलिस दिव्यांग यात्रियों को किसी भी प्रकार की समस्या न हो इसलिए हमेशा कार्यरत रहती है लेकिन कुछ अड़ियल यात्री रेलवे के नियमों को ताक पर रखकर सही-सलामत होने के बावजूद दिव्यांग डिब्बों में यात्रा करते हैं। ऐसे में ठाणे रेलवे पुलिस द्वारा पिछले ३ वर्षों का आंकड़ा जारी किया गया है, जिसमें वर्ष २०१६ में कुल ३,१७३ यात्रियों, वर्ष २०१७ में ३,२९४ यात्रियों और वर्ष २०१८ में अब तक ४,०३० अड़ियल यात्रियों पर कार्रवाई की गई है। ठाणे रेलवे पुलिस निरीक्षक राजेंद्र पांडव ने बताया कि यात्रियों को खुद ब खुद दिव्यांग व्यक्तियों की मदद करनी चाहिए साथ ही दिव्यांग डिब्बों में यात्रा करने से बचना चाहिए। साथ ही उन्होंने बताया कि रेलवे पुलिस अब ऐसे अड़ियल यात्रियों पर सख्त कार्रवाई करनेवाली है, इस नियम के तहत जो यात्री दो बार दिव्यांग डिब्बे में यात्रा करते मिलता है तो उस पर जुर्माना तो लगेगा ही साथ ही यात्री को जेल भी जाना पड़ेगा।