" /> दीवारों पर कोराना वॉरियर्स की वीरगाथा

दीवारों पर कोराना वॉरियर्स की वीरगाथा

कुछ महीनों से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए कोरोना से लड़ाई में अपनी जान जोखिम में डालकर अनेक लोगों ने इन विपरीत परिस्थितियों का बहादुरी से सामना किया है। इन कोरोना कर्मयोद्धाओं के सम्मान में पश्चिम रेलवे ने स्टार्ट इंडिया फाउंडेशन और एशियन पेंट के सहयोग से ‘मुंबई के हीरो’ शीर्षक के अंतर्गत भित्ति चित्रों से माहिम रेलवे स्टेशन के बाहरी हिस्से को सौंदर्यीकृत किया है। इन भित्ति चित्रों में कठिन परिस्थितियों में देश में कोरोना से लड़ाई में अथक कार्य करनेवाले डॉक्टर, नर्स, पुलिस, सब्जी विक्रेता, डिलीवरी कर्मी और सैनिटाइजेशन कर्मचारियों को अत्यंत प्रभावशाली शैली में चित्रित किया गया है।

बता दें कि इन भित्ति चित्रों की डिजाइनिंग गुजराती स्ट्रीट आर्टिस्ट डॉ. निकुंज प्रजापति द्वारा तैयार की गई और १५ दिनों के समय अंतराल में उस्ताद मुनीर बुखारी द्वारा इसे जीवंत रूप प्रदान किया गया। रंग-बिरंगी पृष्ठभूमि वाली दीवार पर निकुंज प्रजापति द्वारा बनाए गए चित्र एक ही रंग के होने के बावजूद अलग दिखाई पड़ते हैं। हालांकि उसमें चित्रित प्रत्येक व्यक्ति को अपने व्यवसाय में अत्यंत मग्न दिखाया गया है। पश्चिम रेलवे पहले भी चर्चगेट स्टेशन के बाहरी हिस्से पर बने महात्मा गांधी के विशाल एवं रंगीन भित्ति चित्र बनाने के लिए ‘टार्ट’ के साथ साझेदारी कर चुकी है। ऐसी जानकारी पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रविंद्र भाकर ने दी। उन्होंने बताया कि पब्लिक स्पेस में आर्ट प्रोजेक्ट के तौर पर अनूठी कलाकृतियां बनाने का एकमात्र उद्देश्य कला को परंपरागत गैलरी से बाहर लाकर बड़ी संख्या में दर्शकों और शहर की आम जनता तक इस वास्तविक उद्देश्य को अपनी कला के माध्यम से पहुंचाना है। इस अवसर पर एशियन पेंट्स लिमिटेड के एमडी एवं सीईओ अमित सिंगल ने बताया कि माहिम जंक्शन पर ‘हीरोज ऑफ मुंबई’ प्रोजेक्ट सभी असाधारण व्यक्तियों को धन्यवाद देने का एक बेहतर तरीका है, जिन्होंने इस संकट की घड़ी में दूसरों की सेवा और सुरक्षा करने के लिए अपने आपको जोखिम में डाला है। इन भित्ति चित्रों को बनाने का उद्देश्य इस महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ने में कोरोना योद्धाओं के योगदान को याद रखने के अतिरिक्त पब्लिक स्पेस को कला एवं सामाजिक विषयों से जगमगा देना है।