दुविधा में राहुल!

जब से विभिन्न एग्जिट पोल्स में यूपीए का सूपड़ा साफ दिखाया गया है, कांग्रेस वैंâप में सन्नाटा छाया हुआ है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नजर नहीं आए हैं। खबर है कि वे अगली सरकार बनाने की तमाम संभावनाओं पर विचार-विमर्श कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, एग्जिट पोल के बाद कांग्रेस में भी मंथन जारी है। राहुल गांधी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मिलकर परिणाम के बाद की स्थिति पर बात कर रहे हैं। इस बीच, ऐसी भी खबरें हैं कि अगर यूपीए गठबंधन २३ मई को नतीजों में पिछड़ती है तो तीसरे मोर्चे की कवायद को फिर शुरू किया जाए। इस स्थिति में तीसरा मोर्चा कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए गठबंधन के साथ सरकार बनाने की कोशिश कर सकती है। तेलंगाना के सीएम केसीआर लगातार तीसरा मोर्चा बनाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। गौरतलब है कि रविवार को आए सभी एग्जिट पोल ने बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को पूर्ण बहुमत की सरकार का अनुमान लगाया है।
एनसीपी चीफ शरद पवार ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक के संपर्क में हैं। बता दें कि पटनायक ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। बीजेपी पहले से ही पटनायक पर सॉफ्ट रुख अपनाए हुए है। ऐसे में पवार का पटनायक से संपर्क में होने की खबरों ने सस्पेंस बढ़ा दिया है। सूत्रों के मुताबिक पवार वाईएसआर नेता जगन मोहन रेड्डी के भी संपर्क में हैं। जगन और पटनायक का रुख अभी तक बीजेपी के लिए सॉफ्ट रहा है। बीजेपी ने भी चुनाव प्रचार के दौरान इन दो नेताओं के प्रति नरम रुख ही अपनाया था।