देशद्रोहियों को गाड़ देंगे!, उद्धव ठाकरे की गर्जना

सातारा के बाद कल रात धारावी में हुई शिवसेना-भाजपा महायुति की विशाल जनसभा में शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे कांग्रेस-राकांपा सहित एमआईएम मुखिया पर गरजे। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से कहा कि हिंदुस्थान में शिवशाही की ही सरकार चाहिए। कांग्रेस अपने घोषणापत्र में देशद्रोह की धारा हटाने की बात करती है, इसे हम कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमारी सरकार देशद्रोहियों को न सिर्फ गाड़ेगी बल्कि उन्हें फांसी पर भी लटकाएगी।
कल धारावी में शिवसेना-भाजपा महायुति के प्रत्याशी राहुल शेवाले के प्रचारार्थ भव्य सभा आयोजित की गई थी। इस सभा को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि २६/११ आतंकी हमले में पुलिस अफसर कामठे, करकरे, सालसकर, तुकाराम ओंबले ने अपनी शहादत देकर आतंकी कसाब को जिंदा पकड़ा था। कसाब जैसे देशद्रोहियों को देशद्रोह की धारा से बचानेवाली कांग्रेस और देश के टुकड़े करने की बात करनेवाले नालायकों के हाथ में देश की सत्ता दोगे क्या? उद्धव ठाकरे द्वारा ऐसा सवाल पूछते ही सभा में मौजूद जनसमुदाय ने एक स्वर में ‘नहीं’ कहा। उन्होंने आगे कहा कि विपक्ष कहता है कि शिवसेना-भाजपा को वोट मत दो। तो फिर किसको दो? ऐसा सवाल करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि इन्हें यह सरकार इसलिए नहीं चाहिए क्योंकि इस सरकार ने पाकिस्तान में घुसकर पाकिस्तान को सबक सिखाया। कांग्रेस के तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव के कार्यकाल पर रोशनी डालते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख ने कहा कि इनके कार्यकाल में देश में घुसे आतंकियों को इन्होंने न सिर्फ बिरयानी खिलाई, बल्कि उन्हें सुरक्षित वापस भी भेजा लेकिन महायुति सरकार के कार्यकाल में अगर आतंकी घुसा तो वह मारा जाएगा। इतना ही नहीं, पाकिस्तान ने दोबारा आतंकी हमला करने की कोशिश भी की तो हमारे देश के जवान पाकिस्तान में घुसकर पाकिस्तान को सबक सिखाएंगे।

मनपा चुनाव के समय हमने ५०० वर्गफुट के मकानों का प्रॉपर्टी टैक्स माफ करने का वचन दिया था, जिसे हमने पूरा किया है। हम जो वचन देते हैं, उसे निभाते हैं। हम डींगें नहीं मारते इसलिए शिवसेना पर मुंबईकरों का आशीर्वाद बना हुआ है और पिछले २५ वर्षों से उन्होंने मनपा की सत्ता हमें सौंपी है। इन शब्दों में शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने उद्गार व्यक्त किए।
कल धारावी में शिवसेना-भाजपा महायुति के प्रत्याशी राहुल शेवाले के प्रचारार्थ विशाल सभा आयोजित की गई थी। सभा को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस आघाड़ी की तत्कालीन सरकार के निकम्मेपन को उजागर किया। उन्होंने कहा कि केंद्र में आघाड़ी सरकार के कार्यकाल के दौरान मुंबई की परियोजनाओं की फाइल टेबल से खिसकती नहीं थी। उस समय मुंबई के कांग्रेसी सांसद दिल्ली में नहीं थे क्या? इसी सरकार की लेटलतीफी के कारण सी-लिंक परियोजना का खर्च काफी बढ़ गया। कांग्रेस वाले इसका हिसाब पहले दें। उन्होंने मनपा के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि मध्य वैतरणा झील, जिसे शिवसेनाप्रमुख का नाम दिया गया है, उसका निर्माण महज साढ़े तीन वर्ष में पूर्ण किया गया। इतने कम समय में इस झील का काम पूरा करने पर मनपा का नाम विश्व में नौवें स्थान पर रहा। समय से पहले मनपा ने इस परियोजना को पूर्ण किया लेकिन इसके लिए अनुमति पाने में मनपा को दस वर्ष लग गए क्योंकि उस समय केंद्र में कांग्रेस आघाड़ी की सरकार थी। कांग्रेस-राकांपा हमसे पूछती है शर्म नहीं आती है? अरे, इन्हें शर्म का मतलब भी पता है क्या? कांग्रेसवाले धारावी की पहचान एक बड़ी झोपड़पट्टी के रूप में करते हैं। तुम्हें शर्म आनी चाहिए। यहां मेहनतकश और मुंबई की सुरक्षा का खयाल रखनेवाले लोग रहते हैं। उनका ख्याल हमें रखना है। धारावी राहुल शेवाले की जन्मभूमि है। जन्मभूमि होने के कारण राहुल धारावी का है। उसे समर्थन दो। उसने नगरसेवक और सांसद के रूप में अच्छा काम किया है। उसे दोबारा लोकसभा जाने का मौका मिलना चाहिए। राहुल शेवाले द्वारा शुरू किए गए ‘मेड इन धारावी’ ब्रांड की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि धारावी में मुझे जीत के पटाखे फूटते हुए देखना है। ओवैसी पर प्रहार करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि धारावी के मुसलमानों से आकर पूछो कि संकट के समय उनकी मदद के लिए हमारे शिवसैनिक ही दौड़कर आते हैं। यही हमारी राष्ट्रीयता है और यही हमारा हिंदुत्व है। जो इस देश को अपना देश कहता है, वह हमारा है। ओवैसी ने संभाजीनगर में औरंगजेब की कब्र पर जाकर माथा टेका था। औरंगजेब हमें भी प्यारा है, लेकिन वो औरंगजेब नहीं बल्कि वो औरंगजेब, जिसने देश के लिए अपनी शहादत दी। शिवसेना-भाजपा की युति पर उद्धव ठाकरे ने उपस्थित शिवसैनिकों से सवाल किया कि उनके द्वारा लिया गया युति का पैâसला उचित है या नहीं? इस पर सभी ने एक स्वर में ‘हां’ में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि शिवसेनाप्रमुख ने मुझे एक सीख दी है कि जो भी करो, खुलेआम करो, चोरी-छिपे नहीं। मैंने युति खुलेआम की। इस दौरान उन्होंने विश्वास दिलाया कि धारावी पुनर्विकास परियोजना का शुभारंभ करने के लिए धारावी निश्चित आएंगे।