देश में बनेगी एनडीए की सरकार!, कांग्रेस भी होगी थोड़ी मजबूत, कहता है इंडिया टीवी-सीएनएक्स का जनमत सर्वेक्षण

लोकसभा चुनावों की सरगर्मी बढ़ती जा रही है और हर पार्टी दिल्ली पर कब्जे के लिए एड़ी -चोटी का जोर लगाने लगी है। तूफानी प्रचार का दौर शुरू हो चुका है। इसके साथ ही जनता के बीच यह जानने की उत्कंठा बढ़ती जा रही है कि आखिर किसके हाथ लगेगी बाजी। ऐसे में टीवी चैनलों द्वारा किए गए जनमत सर्वेक्षण तस्वीर का रुख कुछ साफ करते हैं। इंडिया टीवी-सीएनएक्स के ताजा चुनाव पूर्व जन सर्वे के मुताबिक केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए (राजग) को २७५ सीटों के साथ सामान्य बहुमत मिल सकता है जो कि बहुमत के लिए जरूरी जादुई नंबर से महज ३ सीट ज्यादा है। इससे इस बात की प्रबल संभावना दिखती है कि देश में एक बार फिर एनडीए की सरकार बनेगी। जहां तक कांग्रेस का सवाल है तो वह पहले से तो मजबूत होगी और ज्यादा सीटें जीतेगी पर १०० के आंकड़े से कुछ दूर रह जाएगी।

 सभी ५४३ लोकसभा क्षेत्रों में सर्वे
 २४ से ३१ मार्च के बीच किया गया

इस जनमत सर्वेक्षण के मुताबिक लोकसभा की ५४३ सीटों में से भाजपा का मौजूदा २८० सीटों का आंकड़ा गिरकर २३० सीटों तक पहुंच सकता है, जो कि बहुमत के लिए जरूरी २७२ की संख्या से करीब ४२ सीट कम है। वहीं कांग्रेस जो कि २०१४ के चुनाव में ४४ सीट जीत पाई थी, इस बार ९७ सीट जीत सकती है। इस सर्वे के अनुमान के मुताबिक एनडीए को २७५ सीटों पर सफलता मिल सकती है जबकि कांग्रेस की अगुवाईवाली यूपीए १४७ सीटें जीत सकती है, वहीं अन्य जिसमें एसपी, बीएसपी, टीएमसी, टीआरएस और अन्य क्षेत्रीय पार्टियां और निर्दलीय शामिल हैं, १२१ सीटें जीत सकती हैं।

आगामी मई में एक बार फिर देश में एनडीए की सरकार बनना तय है। इंडिया टीवी द्वारा कराए गए ताजा जनमत सर्वेक्षण के अनुसार मामूली बढ़त के साथ एक बार फिर केंद्र में एनडीए की सरकार बनेगी। एनडीए में भाजपा, शिवसेना, अकाली दल, एआईएडीएमके, जदयू, लोजपा, पीएमके व क्षेत्रीय पार्टियां शामिल हैं जबकि यूपीए में कांग्रेस, डीएमके, टीडीपी, जेडी (एस), आरजेडी, जेएमएम, एनसीपी, नेशनल कॉन्प्रâेंस, आईयूएमएल आदि शामिल हैं।

‘अन्य’ में सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस, टीआरएस, बीजद, वाईएसआर कांग्रेस, लेफ्ट प्रâंट, पीडीपी, एआईयूडीएफ, एआईएमआईएम, आईएनएलडी, आप, जेवीएम (पी), तमिलनाडु की एएमएमके व निर्दलीय शामिल हैं। एनडीए को अनुमानित कुल २७५ सीटों में से भाजपा के खाते में २३० सीटें जा सकती हैं, शिवसेना १३, एआईएडीएमके-१०, जदयू-९, अकाली-२, पीएमके-२, लोजपा-३ तथा अन्य सीटें क्षेत्रीय दलों और छोटी पार्टियों के खाते में जा सकती हैं जबकि यूपीए की १२६ सीटों में से कांग्रेस ९७ सीटें जीत सकती है, डीएमके-१६, राजद-८, टीडीपी-७ और बाकी सीटें अन्य क्षेत्रीय और छोटी पार्टियां जीत सकती हैं। ‘अन्य’ की महत्वपूर्ण लिस्ट में ममता बनर्जी की तृणमूल २८, सपा-१५, बसपा-१४, वाईएसआर कांग्रेस-१८, टीआरएस-१२, बीजद-१४, वाम मोर्चा-८ और बाकी सीटें अन्य क्षेत्रीय और छोटे दल जीत सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण परिणाम दिल्ली का होगा, जहां तमाम दावों के बावजूद अरविंद केजरीवाल की ‘आप’ अपना खाता नहीं खोल पाएगी और भाजपा दिल्ली की सभी सात सीटों पर जीत हासिल कर सकती है।

राज्यवार सीटों का ब्रेकअप
यूपी (८०)
भाजपा-४०, बसपा-१६, सपा-१८, कांग्रेस-४, रालोद-१, अपना दल-१
उत्तराखंड (५)
भाजपा-३, कांग्रेस-२
राजस्थान (२५)
भाजपा-१७, कांग्रेस-८,
प.बंगाल (४२)
तृणमूल-२८, भाजपा-१२, कांग्रेस-१, लेफ्ट प्रâंट-१,
ओडिशा (२१)
बीजद-१४, भाजपा-६, कांग्रेस-१
मध्यप्रदेश (२९)
भाजपा-२१, कांग्रेस-८,
छत्तीसगढ़ (११)
भाजपा-३, कांग्रेस-८,
पंजाब (१३)
कांग्रेस-९, अकाली-२, आप-१, भाजपा-१,
हरियाणा (१०)
भाजपा-९, कांग्रेस-१,
बिहार (४०)
भाजपा-१४, राजद-८, जदयू-९, कांग्रेस-३, लोजपा-३, आरएलएसपी-१, हम-१, वीआईपी-१
झारखंड (१४)
भाजपा-९, जेएमएम-२, कांग्रेस-३
गुजरात (२६) भाजपा-२४, कांग्रेस-२,
हिमाचल (४)
भाजपा-३, कांग्रेस-१
महाराष्ट्र (४८)
महायुति ३४ , कांग्रेस-७, एनसीपी-६, अन्य-१
गोवा (२)
भाजपा-२, कांग्रेस-०,
तमिलनाडु(३९)
डीएमके-१६,
एआईएडीएमके-१०, कांग्रेस-५, भाजपा-१, पीएमके-२, अन्य-५,
आंध्रप्रदेश (२५)
वाईएसआर कांग्रेस-१८, टीडीपी-७, कुल-२५
तेलंगाना (१७)
तेरास-१२, कांग्रेस-४,
एआईएमआईएम-१,
कर्नाटक (२८)
भाजपा-१६, जेडीएस-२, कांग्रेस-१०
केरल (२०)
यूडीएफ-१४, एलडीएफ-५, भाजपा-१
जम्मू-कश्मीर (६)
भाजपा-२, नेकां-३, कांग्रेस-१,
असम (१४)
भाजपा-५, एआईयूडीएफ-२, कांग्रेस-५, अन्य-२, कुल-१४
अन्य उत्तर पूर्व राज्य (११)
भाजपा-४, कांग्रेस-४, एनपीपी-१, एनडीपीपी-१, एसडीएफ-१, कुल-११
दिल्ली (७)
भाजपा-७
अन्य केंद्र शासित प्रदेश (६)
भाजपा-४, कांग्रेस-२
 अंतिम अनुमान
कुल सीट-५४३
भाजपा-२३०, कांग्रेस-९७, तृणमूल-२८, वाईएसआर कांग्रेस-१८, सपा-१५, बसपा-१४, डीएमके-१६,  एआईडीएमके-१०,
टीआरएस-१२, लेफ्ट  फ्रंट -८, जदयू-९, एनसीपी-६, राजद-८, बीजद-१४, बाकी सीटों पर छोटी पार्टियां और निर्दलीय।
सर्वेक्षण में आवासीय और व्यावसायिक क्षेत्र के साथ ही दूरस्थ और प्रमुख इलाकों को शामिल किया गया है, जिनमें उच्च मध्यम वर्गीय कॉलोनी भी शामिल हैं। सैम्पल हर तरह के मतदाता क्षेत्र से लिया गया है, जिसमें कोबलर्स, दर्जी, नाई, दिहाड़ी मजदूर, छोटे दुकानदार, मैकेनिक, मेडिकल प्रैक्टिशनर, ऑटो-टैक्सी ड्राइवरों, रियल इस्टेट डीलर आदि शामिल हैं। इसमें एरर मार्जिन २.५ प्रतिशत रखा गया है।

 सैम्पल साइज : ६५,१६०
 पुरुष : ३७,२७२
 महिलाएं : ३०,८८८
 भाजपा : २३०
 एनडीए : २७५
 कांग्रेस : ९७
 यूपीए : १४७
 अन्य : १२१