दोस्त बनकर आया, मासूम को चुराया!

शहर में आए दिन नाबालिग बच्चों के गायब होने की खबरें मिल रही हैं। पुलिस इस पर अंकुश लगाने की भरपूर कोशिश कर रही है पर पूरी तरह से सफल नहीं हो पा रही है। दिवा के गणेश नगर में मोनू पासी अपनी पत्नी, बाप तथा दो भाइयों के साथ रहते हैं। इनके गांव का रहनेवाला पनवेल निवासी नागेश पासवान कभी-कभार इनको मिलने के लिए दिवा आ जाता था। ६ जुलाई को नागेश इनको मिलने के लिए घर आया था। शाम के करीब ५ से ६ बजे के दौरान नागेश ने मोनू के डेढ़ वर्षीय बेटे आकाश को गणेश तालाब परिसर घुमाने की जिद करने लगा। नागेश की जिद को देखते हुए मोनू ने अपने बेटे आकाश के साथ अपने छोटे भाई अवधेश पासवान को भी भेज दिया। दोनों आकाश को लेकर तालाब परिसर में घूम ही रहे थे कि इसी दौरान एक युवक आया और अवधेश पासवान से कहा कि सामने स्थित मेडिकल स्टोर पर कोई युवक समान लेकर आया है, तुम्हे बुला रहा है। अवधेश मेडिकल के पास गया तो वहां कोई भी नहीं था। जब तालाब पर वापस आया तो मौके से नागेश बच्चे के साथ गायब हो गया था। अवधेश ने तालाब के आसपास दोनों को पहले खोजा फिर इसकी जानकारी अपने भाई मोनू को दी। नागेश चूंकी गांव का रहनेवाला था इसलिए सभी को यह भरोसा था कि बच्चे के साथ कहीं इधर-उधर गया होगा, आ जाएगा लेकिन जब रात हो गई नागेश बच्चे के साथ नहीं आया तब उन्हें अपहरण की शंका सताने लगी। परिजनों की शिकायत पर मुंब्रा पुलिस ने मामला दर्ज कर खोजबीन शुरू कर दी। नागेश के मोबाइल कॉल के आधार पर पुलिस ने अब तक जावेद सहित तीन लोगों को हिरासत में लिया है। जावेद ने नागेश के साथ बातचीत करने का खुलासा तो किया है पर मासूम आकाश को लेकर इधर-उधर घूम रहे नागेश का अभी तक पता नहीं चल पाया है। बच्चे को लेकर पूरा परिवार परेशान और बेहद चिंतित है। इस संबंध में पुलिस का कहना है कि बच्चे की खोजबीन युद्ध स्तर पर की जा रही है। इसके लिए अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है। पुलिस को शक है कि आरोपी नागेश बच्चा चोर गिरोह से जुड़ा हो सकता है।