" /> दो महीने में शुरू हो जाएगा 100 बेड का अस्पताल

दो महीने में शुरू हो जाएगा 100 बेड का अस्पताल

1000 बेड वाले अस्पताल में मरीजों का इलाज शुरू
कोरोना की होगी मुफ्त जांच

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में कोरोना महामारी के विरुद्ध पूरे राज्य में सफलतापूर्वक लड़ाई लड़ी जा रही है। मुंब्रा प्रभाग में मनपा द्वारा निर्माणाधीन 100 बेड का अस्पताल दो महीने बाद शुरू करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अबुल कलाम आजाद स्टेडियम में 1000 बेड वाले कोविड-19 अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने का काम शुरू हो गया है।
स्थानीय लोगों की सुविधा हेतु कोरोना की जांच अब मुफ्त में की जाएगी। मुंब्रा में आयोजित एक पत्रकार परिषद में यह जानकारी स्थानीय विधायक एवं गृह निर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने दी है। उल्लेखनीय है कि कौसा स्थित एमएम वैली में मनपा द्वारा 100 बेड का एक अस्पताल निर्माणाधीन है। दिवा, मुंब्रा तथा कलवा परिसर सहित आसपास के निवासियों को इसका लाभ मिलेगा। कोरोना काल में अस्पतालों की बढ़ती अवश्यकता को देखते हुए निर्माणाधीन अस्पताल को दो महीने में शुरू करने का निर्देश मनपा आयुक्त विजय सिंघल को दिया गया है। दिवा, मुंब्रा तथा कलवा के मरीजों के लिए कौसा स्थित अबुल कलाम स्टेडियम में अस्थायी रूप से बनाए गए 1000 बेड वाले कोविड 19 अस्पताल में इस समय 35 मरीज भर्ती हैं। चार मरीज इलाज के बाद ठीक होकर घर जा चुके हैं। जांच के अभाव में मरीज जब गंभीर रूप से बीमार हो जाते हैं, तब वे अस्पताल का रुख करते हैं। पत्रकार परिषद में स्थानीय डॉक्टरों से अपील की गई है कि मरीजों में कोरोना के संभावित लक्षण अगर दिखाई दें तो उन्हें फौरन मनपा अस्पताल में भेजने में सहयोग करें। शहर में ऐसे मरीजों की संख्या देखने को मिल रही है, जिनमें जांच के अभाव में ऑक्सीजन की मात्रा 40 से 50 प्रतिशत के बीच रहती है। उनकी जिंदगी बचाने के लिए डॉक्टरों को कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है। सही समय पर जांच हो जाए तो सभी मरीजों की जिंदगी बचाई जा सकती है। मुंब्रा परिसर में कोरोना की जांच अब विशेष शिविर के माध्यम से मुफ्त में की जाएगी। जांच की जिम्मेदारी इत्तेहाद वेलफेयर ट्रस्ट को सौंपी गई है। ट्रस्ट के अध्यक्ष शमीम खान का कहना है कि मुफ्त जांच की जिम्मेदारी हमारे ट्रस्ट को सौपी गई है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। कोरोना काल में ट्रस्ट के माध्यम से लोगों में राहत पहुंचाने का काम लगातार बड़े पैमाने पर किया जा रहा है।