धमाकों से दहला श्रीलंका, मुंबई में हुई सिहरन, चर्च-होटलों की बढ़ी सुरक्षा

ईस्टर रविवार के दिन कल आतंकियों ने शृंखलाबद्ध ८ बम धमाकों से श्रीलंका को दहला दिया। ये बम धमाके राजधानी कोलंबो सहित श्रीलंका के ८ चर्चों एवं होटलों में हुए। वैसे तो इन धमाकों की गूंज घटनास्थल से कई किलोमीटर दूर तक सुनी गई लेकिन इसके कारण समुद्र के दूसरे छोर पर स्थित देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में भी लोग सिहर उठे क्योंकि कई बार मुंबई बम धमाकों की मार झेल चुकी है।
बता दें कि कल सुबह श्रीलंका की राजधानी कोलंबो सहित अन्य इलाकों में धमाकों की शुरुआत तब हुई जब लोग विभिन्न चर्चों में ईस्टर संडे की प्रार्थना के लिए एकत्रित हुए थे। खबर लिखे जाने तक धमाकों में २०७ लोगों की मौत हो चुकी थी जबकि ४५० से ज्यादा घायलों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा था। इन धमाकों के कारण मुंबई में एक बार फिर लोग आतंकी हमलों की आशंका से कांप उठे क्योंकि मुंबई हमेशा से आतंकियों के निशाने पर रही है। कई मौकों पर आतंकी अपनी काली करतूतों से दहलाने का प्रयास कर चुके हैं। वर्ष १९९३ में शृंखलाबद्ध बम धमाके के अलावा लाइफ लाइन माने जानेवाली लोकल ट्रेन में हुए ७/११ बम धमाके और २६/११ आतंकी हमलों के शिकार मुंबई कर हो चुके हैं। २६/११ आतंकी हमले को दुनिया के सबसे बड़े आतंकी हमलों में एक माना जाता है। श्रीलंका में हुए बम धमाके को लेकर मुंबई पुलिस ने यहां सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं। वर्तमान में लोकसभा चुनाव शुरू होने के चलते पुलिस किसी भी तरह से सुरक्षा में कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहती। पुलिस के आला अफसरों की मानें तो माहिम, बांद्रा, मालवणी, भायखला, वाकोला आदि इलाकों के प्रमुख चर्चों के अलावा शहर और उपनगरों के पांच सितारा होटलों की सुरक्षा बढ़ा दी है।