" /> धर्मस्थलों को खोलने की मांग-मुंबई कांग्रेस उपाध्यक्ष ने लिखा सीएम को पत्र

धर्मस्थलों को खोलने की मांग-मुंबई कांग्रेस उपाध्यक्ष ने लिखा सीएम को पत्र

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से धर्मस्थलों को खोलने की मांग मुंबई कांग्रेस के उपाध्यक्ष डॉ. अमरजीत सिंह मन्हास ने की है। डॉ. मन्हास ने पत्र में लिखा है कि आप जानते हैं, कई लोग वैश्विक महामारी कोविड-१९ के बाद हुए लॉकडाउन की वजह से गहरे अवसाद और निराशा के दौर से गुजर रहे हैं। स्वाभाविक तौर पर इसका असर नागरिकों के जीवन पर पड़ रहा है, जिसके फलस्वरूप मुंबई में इन दिनों बड़ी तादाद में अप्राकृतिक मौतें हो रही हैं। इसलिए मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि राज्य में बंद पड़े धर्मस्थलों को जरूरी सावधानी के साथ खोलने की कृपा करें ताकि लोग अपने आराध्य के दरबार में पहुंच कर अपने दुख-दर्द को कम करने के लिए पूजा-पाठ या इबादत कर सकें। निश्चित रूप से इससे लोग अवसाद और विपत्ति से बाहर आने के लिए ऊपर वाले से मदद मांग सकेंगे। आगे उन्होंने पत्र में लिखा है इससे लोगों को उम्मीद की एक नई किरण मिलेगी, जिससे उन्हें वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से लड़ाई लड़ने और इस कठिन समय में जीवित रहने में मदद मिलेगी। पश्चिम बंगाल, पंजाब, कर्नाटक आदि जैसे कई राज्यों ने पहले से ही सख्त दिशा-निर्देशों और सामाजिक दूरी के साथ पूजास्थलों को फिर से खोल दिया है। इसके अलावा पूजास्थलों में कर्मचारियों का वेतन, बिजली बिल, जल शुल्क और संपत्ति कर जैसे अधिकांश खर्चों का प्रबंधन सार्वजनिक तौर पर भक्तों से मिले दान (डोनेशन) से किया जाता है, लेकिन लॉकडाउन के चलते पिछले ३ महीनों से धर्मस्थलों का डोनेशन नहीं के बराबर हो गया है। इससे दिनोंदिन खर्चों का प्रबंधन इन धर्मस्थलों के लिए मुश्किल हो रहा है। अंत में मन्हास ने सीएम से अनुरोध करते हुए लिखा है कि कृपया मेरे निवेदन पर विचार करें और राज्य में विशेष रूप से मुंबई में धर्मस्थालों को फिर से खोलने की कृपा करें।