धर्मेंद्र का सपाई ‘धर्म’, भाजपाई बहनोई से तोड़ा रिश्ता

लोकसभा चुनाव का माहौल गरमाता जा रहा है। गरमाते माहौल के साथ ही दल-बदल का सिलसिला भी जारी है। इसी दल-बदल के सिलसिले में यूपी में एक ऐसा तूफान उठा कि सपा सांसद धर्मेंद्र यादव को सियासी ‘धर्म’ अपनाते हुए अपने बहनोई से रिश्ता तोड़ना पड़ा। उनके बहनोई अनुजेश प्रताप सिंह भाजपा में शामिल हुए हैं जो धर्मेंद्र को रास नहीं आया।

सपा सांसद धर्मेंद्र यादव के बहनोई अनुजेश प्रताप सिंह यादव ने गत रविवार को आगरा में अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा ज्वाइन किया। सांसद धर्मेंद्र यादव ने अनुजेश के भाजपा ज्वाइन करने की खबरों को अपने नाम के साथ जोड़े जाने पर नाराजगी जाहिर की और एक पत्र जारी किया। पत्र में सपा सांसद ने लिखा, ‘मीडिया के माध्यम से मुझे पता चला कि अनुजेश प्रताप सिंह, निवासी-भारौल, जनपद फिरोजाबाद ने २४ मार्च को भाजपा ज्वाइन किया है। मीडिया ने उन्हें मेरे बहनोई के रूप में प्रस्तुत कर सुर्खियां बनाई हैं। मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि भाजपा के किसी भी नेता से मेरा कभी भी कोई संबंध नहीं हो सकता। अत: अनुजेश प्रताप सिंह से भी मेरा अब कोई संबंध नहीं है।’

इस बारे में धर्मेंद्र यादव ने कहा कि भाजपाई मीडिया ने उन्हें मेरे बहनोई के रूप में पेश किया। इसमें कोई संदेह नहीं कि वह मेरे बहनोई हैं लेकिन जब वह सपा के खिलाफ इस तरह की गतिविधि कर रहे हैं तो मेरे नाम का दुरुपयोग न हो, इसी वजह से मैं कोई रिश्ता नहीं रख रहा हूं।’ इस बारे में अनुजेश प्रताप सिंह का कहना है कि अब वह नहीं मान रहे हैं तो नहीं हैं बहनोई। क्या किया जा सकता है? वह सांसद हैं, मैं उनके लिए कुछ नहीं कहूंगा। नवल किशोर की पत्नी सांसद जी के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं तो क्या उन्होंने अपनी पत्नी छोड़ दी?