नए साल का टूर, शहर से दूर

 

जैसे-जैसे नया साल नजदीक आ रहा है, उसी गति से लोगों ने नव वर्ष का आनंद उठाने के लिए शहर से दूर शांतिभरे वातावरण में नव वर्ष मनाने के लिए बुकिंग करनी शुरू कर दी है। शहर की अफरा-तफरी और शोरगुल से बचकर मुंबईकरों का रुझान प्राकृतिक सौंदर्ययुक्त शांतिभरे वातावरण की तरफ है। ऐसे में डी.जे. की तेज धुन और पार्टीज की झूठी चकाचौंध के चंगुल से निकलकर मुंबईकर खुले आसमान के नीचे नया साल मनाने को प्राथमिकता दे रहे हैं। अभी तक मिले आंकड़ों के मुताबिक लगभग १०,००० से भी ज्यादा लोगों ने नव वर्ष का टूर शहर से दूर मनाने के लिए बुकिंग करना शुरू कर दिया है।

अलीबाग-

रायगढ़ स्थित अलीबाग नव वर्ष का आनंद उठाने के लिए मुंबईकरों की पहली पसंद बना हुआ है। मुंबई से लगभग १०८ किमी. दूर स्थित तटीय इलाके पर बसा यह शहर अपने शांतिपूर्ण माहौल और पर्यटनस्थलों के लिए प्रसिद्ध है। अलीबाग बीच, सिद्धेश्वर मंदिर, अलीबाग किला, वर्सोली बीच और अन्य कई स्थानों पर मुंबईकर शांतिपूर्वक अपने परिवार और दोस्तों के साथ नए साल का आनंद उठा सकते हैं। इसके अलावा १,००० से १,५०० रुपए तक की सस्ती दरों पर होटल उपलब्ध होने के कारण अधिकांश मुंबईकर अलीबाग की तरफ रुझान कर रहे हैं।

लोनावला-

मुंबई से लगभग ९६ किलोमीटर दूर स्थित लोनावला न सिर्फ पहाड़ी खूबसूरती बल्कि वहां नव-वर्ष के मौके पर होनेवाली एक्टिविटीज जिममें मिनी गोल्फ, डार्ट गेम्स, वैंâपिंग, ट्रैकिंग, हाइकिंग, माउंटेनियरिंग के कारण मुंबईकरों को नया साल मनाने के लिए आकर्षित करता है। जंगलों में स्थित १,०००-२,५०० की सस्ती दरों पर उपलब्ध होटल का लुत्फ उठाने के लिए मुंबईकर नया साल लोनावला में मनाना चाहते हैं।

भंडारदारा-

भंडारदारा में बहनेवाली प्रवरा नदी, पहाड़, झरने, विल्सन झील और आर्थर झील प्रकृति का अनूठा सौंदर्य दर्शाती है। मुंबई से लगभग १८५ किमी. दूर स्थित इस पर्यटनस्थल की शांति मुंबईकरों को नया साल यहां मनाने को मजबूर करती है। पुरुषवाड़ी क्षेत्र में स्थित फायरफ्लाइज कैंप इन दिनों लोगों को आकर्षित करने का मुख्य कारण है। लोगों को रहने के लिए यहां २,५०० से २०,००० तक के अत्याधुनिक सुविधाओंयुक्त होटल उपलब्ध हैं।

कोलाड़-

मुंबई से लगभग ११७ किमी. दूर कुंडलिका नदी के किनारे पर स्थित कोलाड़ शांत और पवित्र एहसास दिलाता है। शहरी चकाचौंध से दूर इस क्षेत्र में मोबाइल कनेक्टिविटी भी उपलब्ध नहीं है। इसी वजह से प्रकृति के साथ जुड़ने और आनंद उठाने के लिए मुंबईकर नया साल कोलाड़ में मनाना चाहते हैं।

वैतरणा बांध-

वैतरणा बांध के किनारे पर कैंप लगाकर सूर्यास्त का नजारा और पानी की हलचल देखने को बहुत से मुंबईकर बेताब हैं। पहाड़ और घने जंंगलों के बीच कैंप लगाकर कई मुंबईकर अपने नव वर्ष का आनंद यहां उठाने जा रहे हैं।