नए साल में रेल यात्रियों को सौगात, शताब्दी एक्सप्रेस में पुस्तकालय

नए साल के जश्न को और शानदार बनाने के लिए पश्चिम रेलवे ने मुंबई-अमदाबाद शताब्दी एक्सप्रेस के यात्रियों के लिए एक और अभिनव सुविधा की शुरुआत की गई है। इसके अंतर्गत यात्रियों में पुस्तकें पढ़ने की अभिरुचि को बढ़ावा देने के लिए पश्चिम रेलवे द्वारा १ जनवरी, २०१९ से मुंबई-अमदाबाद शताब्दी एक्सप्रेस के अनुभूति कोच में एक पुस्तकालय शुरू किया है। शताब्दी एक्सप्रेस के विभिन्न यात्रियों ने इस अनूठी पहल की व्यापक रूप से सराहना भी की है।
पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रवींद्र भाकर के अनुसार इस पुस्तकालय में इतिहास, राजनीति, रहस्य-रोमांच, आत्मकथाओं, फिक्शन, सेल्फ हेल्प सहित विभिन्न विषयों से संबंधित लगभग ७० पुस्तकें तथा बच्चों के लिए रोचक कहानियोंवाली ३५ किताबें उपलब्ध कराई गई हैं। ये किताबें विभिन्न व्यक्तियों और संस्थाओं द्वारा डोनेशन के जरिए प्राप्त हुई हैं। यात्री इस पुस्तकालय से अपनी पसंद की कोई भी किताब सफर के दौरान पढ़ने के लिए नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं, जिसे उन्हें सफर समाप्त होने पर ऑन बोर्ड टिकटिंग स्टाफ को लौटाना पड़ेगा। भाकर ने बताया कि इस अभिनव पहल को यात्रियों से मिले उल्लेखनीय प्रतिसाद के फलस्वरूप निकट भविष्य में पश्चिम रेलवे की कुछ और प्रतिष्ठित ट्रेनों में भी इस तरह की अनूठी सुविधा उपलब्ध कराने की योजना बनाई गई है। मोबाइल फोन से चिपकी रहनेवाली युवापीढ़ी और आज के आपा-धापीवाले दौर में किताबें पढ़ने के आनंद को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से पश्चिम रेलवे द्वारा यह अनूठी पहल की गई है। यह छोटा-सा कदम यात्रियों में किताबें पढ़ने की आदत को फिर से जगाने में उल्लेखनीय भूमिका निभाएगा।