नशीला प्रचार, बंटने लगी शराब, चुनावी ऐप पर मिलीं ७१७ शिकायतें

लोकसभा चुनाव का बिगुल बजने के साथ ही राजनीतिक पार्टियों ने प्रचार अभियान शुरू कर दिया है। पर इस बार यह प्रचार काफी नशीला नजर आ रहा है। शराब बंटनी शुरू हो गई है और खूब बंट रही है। लोग चुनाव आयोग द्वारा जारी चुनावी ऐप पर इसकी शिकायत कर रहे हैं। इसके अलावा आचार संहिता उल्लंघन की तमाम शिकायतें आ रही हैं। इस ऐप पर अभी तक ७१७ शिकायतें आ चुकी हैं, इनमें १८ शराब बंटने की हैं।

चुनाव आयोग ने आम लोगों के लिए ऐप जारी किया है, जिस पर आम लोग चुनावी गड़बड़ी और आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकते हैं। अब आम लोग इस ऐप पर खूब शिकायतें भेज रहे हैं। इनमें शराब, कूपन, पैसा आदि बांटने की शिकायतें मिलने लगी हैं और चुनाव आयोग एक्टिव हो गया है तथा कार्रवाई कर रहा है। सबसे अधिक शिकायतें गैरकानूनी पोस्टर, बैनर लगाने की शिकायतें चुनाव आयोग को मिली हैं।

ऐप पर प्राप्त शिकायतों में से आचार संहिता के उल्लंघन होने की शिकायतों पर तत्काल कार्रवाई की गई है। ३६ शिकायतों पर कार्रवाई जारी है, वहीं ३८७ शिकायतें आचार संहिता से संबंधित नहीं होने के कारण उन पर कार्रवाई नहीं की गई। प्राप्त शिकायतों में से सर्वाधिक २३० शिकायतें बिना अनुमति लगाए गए पोस्टर, बैनर के संदर्भ में हैं। संपत्ति विद्रुपीकरण ४४, शस्त्र प्रदर्शन तथा दहशत का वातावरण ७, भेंट वस्तु तथा कूपन का वितरण २२, शराब का वितरण १८, पैसे का वितरण ३८, पेड न्यूज ४१, धार्मिक तथा सामाजिक भाषण ३, प्रचार-फेरी के लिए नागरिकों का परिवहन ५, निर्धारित समय के बाद लाउडस्पीकर का उपयोग ५ और बिना अनुमति वाहनों को लेकर १९ शिकायतें ऐप पर दर्ज की गई हैं। ऐप के सहयोग से सर्वाधिक १३३ शिकायतें पुणे जिले में दर्ज की गई हैं। उसके बाद ठाणे ६८, सोलापुर ६१, मुंबई उपनगर ४५ और मुंबई शहर में ४१ शिकायतें दर्ज हुई हैं। इसी प्रकार हर जिले में शिकायतें दर्ज की गई हैं।

आचार संहिता उल्लंघन पर सी विजिल ऐप के माध्यम से सीधे ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन हो रहा है, ऐसे लगने या दिखाई देने पर नागरिक उस घटना के फोटो तथा २ से ३ मिनट का वीडियो रिकॉर्ड कर ऐप पर डाल सकते हैं। ऐप उपयोगकर्ता अपनी पहचान छिपाकर भी शिकायत दर्ज कर सकते हैं, यह पर्याय भी उपलब्ध है। इस प्रणाली में नागरिकों का अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। मतदाताओं को पैसे, शराब, नशीले पदार्थों का वितरण, शस्त्र का उपयोग, मतदाताओं के साथ मारपीट, दमबाजी, भड़काऊ भाषण, पेड न्यूज, फेक न्यूज, मतदाताओं को प्रलोभन दिखाकर विविध वस्तु का उपयोग, मतदान केंद्र तक मतदाताओं के पहुंचाने के लिए नि:शुल्क परिवहन, उम्मीदवार की मालमत्ता आदि विविध प्रकार की आचार संहिता उल्लंघन मामले को लेकर सी विजिल मोबाइल ऐप पर शिकायत कर सकते हैं। इस ऐप पर ७१७ शिकायतें दर्ज हुई हैं और उनमें से तथ्यात्मक २९४ शिकायतों पर कार्रवाई की गई।

 हेल्पलाइन
निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव में मतदाताओं की सुविधा और अधिक से अधिक उनकी उपयोगिता के लिए हेल्पलाइन शुरू की है। इसका नंबर १९५० है। इस नंबर पर फोन करके मदद ली जा सकती है। इस हेल्पलाइन के अंतर्गत १५ सहायता केंद्र काम कर रहे हैं। आचार संहिता लागू होने के दिन से हर दिन इस हेल्पलाइन पर जानकारी मांगी जा रही है। कॉल आ रहे हैं। इनमें अधिकांश कॉल मतदाता सूची में नाम शामिल कराने से जुड़े आ रहे हैं। समय-समय पर नागरिकों को चुनाव और मतदान की जानकारी देना नए मतदाता पंजीकरण के साथ मतदाताओं का विभिन्न मुद्दों पर मार्गदर्शन करना मतदान पहचान पत्र में बदलाव या स्थानांतरण होने पर मतदान सूची में नाम पंजीकृत कराने के लिए मार्गदर्शन देना।