नारियलवाले निराश ठंडी में धंधा ठंडा

ठंडी के दिनों का जहां मुंबईकरों को बेसब्री से इंतजार रहता है, वहीं गर्मियों में सबको नारियल का पानी पिलाकर ठंड और राहत पहुंचानेवाले नारियल विक्रेताओं के ठंडी में भी पसीने छूट रहे हैं। नारियल विक्रेताओं की इस पीड़ा का मुख्य कारण बढ़ती ठंड से नारियल की बिक्री पर पड़नेवाली भारी मार है।
दिसंबर का महीना शुरू होते ही लोग नारियल पानी पीना कम कर देते हैं, जिसकी वजह से नारियल विक्रेताओं की बिक्री पर भारी असर देखने को मिल रहा है। कुछ नारियल विक्रेता जहां इस समय नारियल पानी के साथ अन्य फल बेचने को मजबूर हो रहे हैं, वहीं अन्य को अपने पॉकेट खर्च के साथ समझौता करना पड़ रहा है। ठंड के दिनों में लोगों को प्यास कम लगने के कारण लोग नारियल पानी कम पीते हैं। परेल के नारियल विक्रेता अनंत पाल ने बताया कि नवंबर तक जहां रोज ८०-९० नारियल बिकते हैं, वहीं हर साल दिसंबर आने तक यह आंकड़ा लुढ़ककर ५० तक पहुंच जाता है। वहीं एक अन्य नारियल विक्रेता विनोद कुमार ने बताया कि इन दिनों बिक्री कम हो जाने की वजह से घर खर्च चलाना मुश्किल हो गया है और वह अपने बच्चों की फीस के लिए पैसे नहीं जुटा पा रहे। इस विषय पर जब आयुर्वेदिक डॉ. रामप्रताप शर्मा से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि नारियल का पानी सेहत के लिए अत्यंत फायदेमंद है। गर्मियों में यह शरीर में पानी की कमी को पूरी करता है पर यह हर मौसम में शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। नारियल का पानी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है और गर्भवती महिलाओं के लिए अत्यधिक लाभकारी है।