नासा की नायाब खोज, ढूंढ निकाली तीन गुना बड़ी पृथ्वी

पृथ्वी के अलावा किसी अन्य ग्रह पर जीवन पनपने की संभावनाएं दुनिया के सभी वैज्ञानिक तलाश रहे हैं। इसी कड़ी में नासा के वैज्ञानिकों को एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है। नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने सौरमंडल के बाहर एक नए ग्रह की नयाब खोज की है। टीईएसएस द्वारा खोजा गया यह अब तक का तीसरा ग्रह है, जो आकार में पृथ्वी से तीन गुना बड़ा है।
बता दें कि यह ग्रह पृथ्वी से ५३ प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। इस ग्रह को एचडी ‘२१७४९ बी’ नाम दिया गया है। यह सूर्य जैसे छोटे चमकीले तारे का चक्कर लगा रहा है। तारे से नजदीक होने के बाद भी इस ग्रह की सतह का तापमान ३०० डिग्री फेरनहाइट ही है। वैज्ञानिकों का कहना है कि पानी के कारण इसका वायुमंडल घना है और इस पर जीवन की संभावना भी हो सकती है।
एचडी २१७४९बी को अपने तारे की परिक्रमा पूरी करने में ३६ दिन लगते हैं। इस ग्रह की खोज से जुड़ीं मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की डायना ड्रैगोमिर का कहना है कि इतने गर्म तारे की परिक्रमा कर रहा एचडी २१७४९बी अब तक का सबसे ठंडा ग्रह है। नासा का टीईएसएस मिशन अब तक तीन महीने में ३ ग्रह और ६ सुपरनोवा की खोज कर चुका है। एचडी २१७४९बी इसकी ताजा खोज है।
यह तीसरा ग्रह है, जिसकी खोज नासा के टीईएसएस ने की है। नासा ने इसे पिछले साल अप्रैल २०१८ में लॉन्च किया था। अगस्त में इसने पहली तस्वीर भेजी थी। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि दो साल के अभियान के दौरान यह करीब २० हजार बाहरी ग्रहों की खोज करेगा। इसके लॉन्च होने से पहले केवल ३,८०० एक्सोप्लैनेट का पता चल पाया था।