निर्विरोध चुने गए विजय औटी विधानसभा में शिवसेना का उपाध्यक्ष

पिछले चार वर्ष से रिक्त विधानसभा उपाध्यक्ष पद पर शिवसेना के विजय औटी कल निर्विरोध चुने गए। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटील सहित सभी विपक्षी विधायक दल के नेताओं ने नवनिर्वाचित उपाध्यक्ष औटी का अभिनंदन किया। विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए शिवसेना के विजय औटी, कांग्रेस के हर्षवर्धन सकपाल और निर्दलीय विधायक बच्चू कडू ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। तीन लोगों के नामांकन पत्र दाखिल होने से चुनाव अटल माना जा रहा था। चुनाव निर्विरोध हो इसके लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की ओर से प्रयास किया जा रहा था पंरतु सत्तापक्ष की संख्याबल को देखते हुए विजय औटी की जीत निश्चित मानी जा रही थी। इसके बावजूद भी चुनाव के मद्देनजर सभी विधायकों को व्हीप जारी की गई थी। कल सुबह ११.३० बजे मतदान होनेवाला था। सुबह १०.३० बजे तक नामांकनपत्र वापस लेने की अवधि थी। कांग्रेस उम्मीदवार हर्षवर्धन सकपाल और बच्चू कडू ने नामांकन पत्र वापस ले लिया। एकमात्र विजय औटी का नामांकन बचा था। विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागडे ने औपचारिकता पूरी करके विजय औटी को निर्विरोध चुने जाने की घोषणा की।
विधानसभा उपाध्यक्ष पद पर निर्विरोध चुने जानेवाले विजय औटी तीन बार पारनेर विधानसभा से चुने गए हैं।  उनके पिता भास्करराव औटी भी विधायक थे। वर्ष २०१४ में शिवसेना-भाजपा की सरकार आने के बाद से विधानसभा उपाध्यक्ष का पद रिक्त था। आखिरकार चार वर्ष के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रिक्त पद शिवसेना को दिया। शिवसेना ने यह पद स्वीकार किया। विजय औटी के चुने जाने के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटील, राकांपा विधायक दल नेता अजीत पवार, वरिष्ठ विधायक गणपतराव देशमुख, शिवसेना गट नेता एकनाथ शिंदे, निर्दलीय विधायक बच्चू कडू आदि ने उनका अभिनंदन किया।