" /> नोएडा में कोरोना का खौफ!, २ स्कूल बंद किए गए

नोएडा में कोरोना का खौफ!, २ स्कूल बंद किए गए

-परीक्षाएं टाली गईं
-२ अस्पताल में भर्ती
-चिकित्सकों निगरानी जारी

चीन में महामारी का रूप धारण कर चुके खतरनाक कोरोना वायरस ने अब नोएडा में भी दस्तक दे दी है। शहर के दो निजी स्कूलों को मंगलवार को बंद कर दिया गया और परीक्षाएं टाल दी गर्इं। स्कूल में पढ़नेवाले एक छात्र के पिता कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। स्कूल की ओर से अभिभावकों को मंगलवार सुबह भेजे गए संदेश में कहा गया है कि जरूरी कारणों के चलते परीक्षाएं टाली गई हैं, हालांकि बोर्ड की परीक्षाएं होंगी।

जिला मजिस्ट्रेट बी.एन. सिंह ने बताया कि नोएडा के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग का एक दल सुबह करीब पौने बारह बजे निरीक्षण के लिए स्कूल पहुंचा। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि इस बीच संक्रमित व्यक्ति के परिवार के कुछ सदस्यों में भी इसी तरह के लक्षण नजर आने के बाद उन्हें सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि उनके कुछ अन्य संबंधियों को कहा गया है कि वे अपने घर में ही, अलग रहें। उन्होंने बताया कि संक्रमित व्यक्ति के लिए अकाउंटेंट का काम करनेवाले मयूर विहार निवासी एक व्यक्ति और कुछ अन्य लोगों को जांच के लिए सफदरजंग अस्पताल भेजा गया है। संक्रमित व्यक्ति के अन्य करीबी लोगों का पता लगाया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक हाल ही में इटली से लौटा दिल्ली निवासी व्यक्ति संक्रमित पाया गया था। उन्होंने आगरा में तीन दिन पहले एक पार्टी दी थी, जिसमें नोएडा के एक स्कूल के दो छात्रों सहित पांच लोग शामिल हुए थे। यह शख्स संक्रमित पाए जाने के बाद उनकी पार्टी में शामिल होनेवाले दो छात्रों सहित पांच लोगों को ग्रेटर नोएडा के राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में भर्ती कराया गया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनुराग भार्गव ने बताया कि पांचों संदिग्धों को पृथक किया गया है। उन्हें जिम्स के पृथक वॉर्ड में भर्ती कराया गया है, जहां उनके स्वास्थ्य पर चिकित्सकों द्वारा लगातार निगाह रखी जा रही है।

आगरा में कोरोना के ६ संदिग्ध
सरकार ने बताया कि आगरा में हाई फीवर से पीड़ित ऐसे ६ लोगों की पहचान की गई है। इनका खून जांच के लिए भेजा गया है। सरकार ने बताया कि सैंपल पुष्टि के लिए पुणे के लैब में भेजा है। इसके अलावा इन ६ लोगों के संपर्क में आनेवाले लोगों की भी पहचान करने की कोशिश की जा रही है। इस बीच यूपी के हेल्थ मिनिस्टर जय प्रताप सिंह ने बताया कि आगरा से कोरोना के सभी संदिग्धों को दिल्ली के अस्पताल में भेज दिया गया है।

दिल्ली के मरीज की हालत स्थिर
सूत्रों ने बताया कि दिल्ली का रहनेवाला शख्स, जिसमें कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया है, वह इटली से २५ फरवरी को हिंदुस्थान लौटा था। चूंकि उस शख्स को कोरोना का कोई लक्षण नहीं था और उस समय तक इटली कोरोना से प्रभावित होनेवाले देश में शामिल नहीं था इसलिए अलग नहीं रखा गया था। हाल में जब उसे बुखार हुआ और सांस लेने में तकलीफ हुई तो उसने संबंधित अधिकारियों को जानकारी दी। जानकारी के बाद शख्स को अलग-थलग रखा गया। कोरोना वायरस के मरीजों के लिए नोडल सेंटर राम मनोहर लोहिया अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा कि शख्स की स्थिति स्थिर है।

ये भी पढ़ें… कोरोना से उपजा दवाओं का संकट