नो नया कर, विकास का महाबजट, बजट से खुश हुए ठाणेकर

कल बुधवार को ठाणे मनपा आयुक्त द्वारा ३ हजार ८६१ करोड़ रुपए का सालाना बजट पेश किया गया। इस बजट में आयुक्त ने पिछले ४ वर्षों में शुरू किए गए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय परियोजनाओं को पूर्ण करने पर जोर दिया है। इस नए वर्ष में किसी भी नई परियोजना को हाथ में न लेते हुए बजट में केवल ठाणेकरों की मूलभूत सुविधाओं, स्वास्थ्य, शिक्षा और पर्यावरण की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया गया है। इस सालाना बजट में ठाणेकरों पर किसी भी प्रकार के नए कर का बोझ नहीं डाला गया है, जिसे लेकर ठाणेकर खुश नजर आ रहे हैं।
बता दें कि पिछले साल ठाणे मनपा आयुक्त संजीव जयसवाल ने अपना चौथा सालाना बजट पेश किया था, जो कि करीब ३,६०० करोड़ रुपए का था। इस बजट में ठाणेकरों पर १० फीसदी कर वृद्धि का बोझ लादा गया था लेकिन इस वर्ष आयुक्त ने अपने ५ वें सालाना बजट में ठाणेकरों को राहत देते हुए किसी भी प्रकार की कर वृद्धि न कर पिछले चार सालों में शुरू किए गए प्रस्तावित सभी विकास परियोजनाओं को पूरा करने पर जोर दिया है। इस बजट में उन्होंने करीब २६१ करोड़ की वृद्धि की है।
मनपा आयुक्त संजीव जयसवाल ने अपने बजटीय भाषण में कहा कि इस वर्ष उन्होंने किसी भी नई योजना को नहीं लाया क्योंकि जो विकास परियोजनाएं प्रस्तावित हैं, उसे ही पूरा करने में दो वर्ष लगेंगे। इसलिए उन्होंने इस साल खारे पानी को मीठा बनाने अर्थात खाड़ी में शुद्ध जल परियोजना, ट्रैफिक जाम का पर्याय बन चुके घोडबंदर रोड के लिए पर्यायी कोस्टल रोड, जल यातायात, कचरे से बिजली का निर्माण, ठाणे-पूर्व में दूसरे सैटिस पुल का निर्माण, अंतर्गत मेट्रो प्रकल्प, विस्तारित ठाणे रेलवे स्टेशन, नया ठाणे बसाना, क्लस्टर योजना का काम शुरू करना, टाटा की तर्ज पर वैंâसर अस्पताल का निर्माण, उथलसर में संजीवनी तालाब को पुनर्जीवित करने, तीन हाथ नाका और नितिन जंक्शन पर हो रहे यातायात जाम को दूर करने हेतु तीसरे उड़ान पुल का निर्माण करने जैसी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए का लक्ष्य तैयार किया है।
परियोजनाओं के लिए निधि
 सड़कों के विस्तार व मजबूतीकरण हेतु ४०३ करोड़ रुपए।
 ट्रैफिक समस्या को दूर करने हेतु ग्रेड सेपरेटर के लिए ४ करोड़ रुपए।
 कलवा खाड़ी पुल हेतु ५० करोड़ रुपए।
 देसाई खाड़ी पर पुल के लिए १२ करोड़ रुपए।
 शहर में १३ जगहों पर आर.ओ.बी हेतु ८ करोड़ रुपए।
 दिवा रेलवे स्टेशन पर १० करोड़ रुपए।
 चौपाटी विकसित करने हेतु १० करोड़ रुपए।
 पार्किंग प्लाजा हेतु ७ करोड़ रुपए।
 मुंब्रा में हज हाउस हेतु १० करोड़ रुपए।
 एकात्मिक तालाब पुनर्जीवन व सौंदर्यीकरण हेतु १२ करोड़ रुपए।
 डायघर एकात्मिक विकास प्रकल्प हेतु ३५.७८ करोड़ रुपए।
 श्मशान भूमि व कब्रिस्तान हेतु ८ करोड़ रुपए।
 मुंब्रा-दिवा में पानी वितरण व्यवस्था व रिमाडेलिंग हेतु ८० करोड़ रुपए।
 स्वास्थ्य सुविधा हेतु २८ करोड़ रुपए।
 कोस्टल, अंतर्गत मेट्रो और पीआरटीएस के लिए ७५ करोड़ रुपए।