न चुनाव लड़ूंगा, न समर्थन दूंगा- रजनीकांत

भारतीय जनता पार्टी और एआईएडीएमके के बीच गठबंधन की खबरों के बीच अभिनेता से नेता बने रजनीकांत ने लंबे समय से चल रहे कयास पर विराम लगाते हुए ऐलान किया है कि वे अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने राजनीतिक पार्टी बनाने से पहले अपना संगठन ‘रजनी मक्कल मंड्रम’ गठित किया है। साथ ही यह भी साफ कर दिया कि इस आम चुनाव में वे किसी को भी अपना समर्थन नहीं देंगे।

दक्षिण की राजनीति में पिछले कुछ समय में कई फिल्मी सितारों ने राजनीति में एंट्री ली है और ऐसे में माना जा रहा था कि वहां पर लोकसभा चुनाव के दौरान जबर्दस्त चुनावी माहौल रहेगा। हालांकि तमिल सिनेमा के सुपरस्टार रजनीकांत ने आम चुनाव से पहले उनके चुनाव लड़ने के कयास पर विराम लगा दिया। रजनीकांत की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उनके संगठन ‘रजनी मक्कल मंड्रम’ का लक्ष्य है कि राज्य विधानसभा चुनाव से चुनावी मैदान में उतरा जाए।

उन्होंने अपने इस बयान में कहा, ‘मेरी फोटो या मेरे संगठन का चिन्ह किसी भी प्रचार के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। यह पूरी तरह से प्रतिबंधित है। तमिलनाडु में सबसे बड़ा संकट जल संकट है। वे उस पार्टी को अपना वोट दें जो उनके (लोगों के) हिसाब से राज्य में जल संकट का स्थायी हल निकाल सकती है।’

रजनीकांत की यह ओर से यह स्पष्टीकरण उस समय आया है जब न सिर्फ राज्य में बल्कि देश के हर हिस्सों में क्षेत्रीय पार्टियां गठबंधन करने में लगी हुई हैं।