पत्थरबाजों ने फोड़ी गार्ड की आंख

सूरत के पास सचिन-भेस्तान रेल सेक्शन के बीच एक बार फिर से पथराव हुआ है। इस बार पथराव ट्रेन के गार्ड कोच में हुआ और इस घटना में पत्थरबाजों ने गार्ड की आंख फोड़ दी है। पत्थर इस तरह से फेंका गया कि गार्ड अपने केबिन में अचेत होकर गिर गया। वायरलेस से इसकी जानकारी जब लोको पायलट को मिली तो सूरत स्टेशन पर ट्रेन के पहुंचने पर जख्मी गार्ड को १०८ एंबुलेंस की मदद से फौरन मेटास हॉस्पिटल भर्ती कराया गया।

गंभीर रूप से घायल हुए गार्ड का नाम उमेश सिंह यादव है। वे नवसारी में रहते हैं और बांद्रा गार्ड लॉबी के गार्ड हैं। सोमवार को बांद्रा से दोपहर १२.५५ बजे उमेश सिंह की ड्यूटी बांद्रा-हिसार ट्रेन में लगी। जब ट्रेन दोपहर ४.३० बजे सूरत के नजदीक सचिन-भेस्तान स्टेशन के पास पहुंची तो उसी मिड सेक्शन पर कुछ पत्थरबाजों ने पीछे के जनरल कोच और गार्ड एसएलआर कोच पर पत्थर फेंके, जिसमें यात्रियों को तो नुकसान नहीं पहुंचा लेकिन पत्थर गार्ड के आंख पर जा लगा और उनकी आंख बुरी तरह से जख्मी हो गई। मामले की जांच हो रही है। भेस्तान के आगे मामला हुआ है इसलिए इसमें नवसारी रेलवे पुलिस भी जांच कर रही है।

सौराष्ट्र एक्सप्रेस पर पथराव
२७ मार्च को सचिन-भेस्तान-उधना सेक्शन के बीच १९०१६ सौराष्ट्र एक्सप्रेस पर पथराव हुआ। इस घटना में पूजा शिंदे नाम की एक महिला के सीने में जोरदार पत्थर लगा था। पूजा को सांस लेने में तकलीफ हुई और नवसारी के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मामले की जांच सूरत रेलवे पुलिस कर रही है।

संपर्क क्रांति पर पथराव
२५ मार्च को वलसाड स्टेशन के नजदीक सूरत की तरफ आ रही बांद्रा-हजरत निजामुद्दीन संपर्क क्रांति एक्सप्रेस पर जोरदार पथराव हुआ। ट्रेन जब रात ८.३० बजे के आस-पास नवसारी-वेडछा-सचिन सेक्शन के आस-पास पहुंची उसी दौरान ट्रेन के कोच एस-८ पर पत्थर फेंके जाने लगे। इस दौरान सीट नंबर ११, १२ और १३ पर बैठे ३ यात्रियों नदीम, बदरूनिसा और कायनात सिद्दीकी को पत्थर लगे। घायलों का इलाज सूरत स्टेशन पर किया गया और उन्हें रेलवे द्वारा पांच-पांच सौ रुपए अनुग्रह राशि दी गई।