परिवार से अलग रहने की जिद, बेटी के साथ लोकल के आगे कूदी महिला

आज की युवा पीढ़ी में शादी के बाद संयुक्त परिवार में रहने की परंपरा खत्म होती जा रही है। बड़ों के दबाव से मुक्त रहने का ख्याल नवदंपतियों में कलह की वजह बन रही है। ऐसी कलह से कई बार गंभीर परिणाम भी सामने आते हैं। ऐसा ही एक सनसनीखेज घटना जोगेश्वरी और राम मंदिर रेलवे स्टेशन के बीच घटी है, जिसमें संयुक्त परिवार से अलग रहने की जिद में एक नव विवाहिता अपनी 8 माह की मासूम बेटी के साथ तेज रफ्तार लोकल ट्रेन के आगे कूद गई। इस घटना में 24 वर्षीय नव विवाहिता की मौके पर ही मौत हो गई लेकिन नौनिहाल बच्ची आश्चर्यजनक रूप से मौत को चकमा देने में सफल हुई।

बता दें कि 24 वर्षीय गायत्री जैसवाल की कुछ ही महीने पहले सुशील जैसवाल से शादी हुई थी। 8 महीने पहले गायत्री ने बेटी नियती को जन्म दिया था और महीने भर पहले वह सुशील और नियती के साथ मुंबई आई थी। यहां सुशील, गायत्री और नियती के साथ अपने भाई के घर में रह रहा था, जो कि गायत्री को रास नहीं आ रहा था। बताया जा रहा था कि गायत्री संयुक्त परिवार में रहने को तैयार नहीं थी। वह सुशील से अलग घर लेकर रहने की जिद कर रही थी, जबकि सुशील इतनी जल्दी अलग नहीं होना चाहता था। लिहाजा वह कमाई का बहाना बना कर गायत्री को टाल रहा था। अपनी मांग न मानने से नाराज गायत्री कल नियती के साथ विरार जानेवाली तेज लोकल के आगे कूद गई। ‘जाको राखे साइयां, मार सके न कोई’ इस कहावत की तर्ज पर नियती तो इस हादसे में बच गई लेकिन बुरी तरह घायल गायत्री की मौके पर ही मौत हो गई। बोरिवली रेलवे पुलिस ने एडीआर दर्ज करके पोस्टमार्टम के बाद गायत्री की लाश सुशील को सौंप दी। पुलिस खुदकशी के अन्य संभावित कारणों की भी जांच कर रही है।