" /> ‘पर्यावरण का संवर्धन करते हुए  विकास कार्य करो’- पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे

‘पर्यावरण का संवर्धन करते हुए  विकास कार्य करो’- पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे

सांगली जिले में ४०० वर्ष पुराने वटवृक्ष बचाने के निर्णय पर
पर्यावरण मंत्री ने संतोष व्यक्त किया

मौजे भोसे (जिला सांगली) में राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच आने वाले ४०० साल पुराने वटवृक्ष को बचाने का निर्णय लिया गया है। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या १६६ के परियोजना निदेशक ने सभी संबंधित लोगों को वटवृक्ष को बचाने के लिए एक पत्र दिया है। राज्य के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को पत्र लिखकर वटवृक्ष बचाने का अनुरोध किया था। इस संबंध में आदित्य ठाकरे ने जिलाधिकारी को भी सूचित किया था। सांगली जिले के जनप्रतिनधि स्वयंसेवी संस्था, पर्यावरणप्रेमी कार्यकर्ता सहित स्थानीय लोगों ने वटवृक्ष को बचाने के लिए आंदोलन भी किया था। इन सब बातों को देखते हुए वटवृक्ष बचाने का निर्णय हुआ है। इस निर्णय पर संतोष व्यक्त करते हुए पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि आगे से राज्य में कोई विकास कार्य पर्यावरण का संवर्धन करके किया जाएगा। इस बाबत वे स्वयं बारीकी से ध्यान देकर कार्यवाही करेंगे। ऐसा आश्वासन आदित्य ठाकरे ने दिया। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पर्यावरण संवर्धन के लिए व्यापक पैमाने पर काम कर रही है। जो वृक्षसंवर्धन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। सांगली जिले में प्रासंगिक वटवृक्ष का पेड़ प्राचीन है और इसे संरक्षित करने की आवश्यकता है।