" /> पल भर में गवां रहे हैं, मेहनत की कमाई : लॉक डाउन में साइबर फ्रॉड का अधिक शिकार हो रहे हैं लोग

पल भर में गवां रहे हैं, मेहनत की कमाई : लॉक डाउन में साइबर फ्रॉड का अधिक शिकार हो रहे हैं लोग

देशभर में लॉक डाउन की वजह से लोग अपने अपने घरों में बंद हैं। कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण कई लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकलना चाह रहे हैं, इस बात का फायदा ठग उठा रहे हैं और लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। कुछ लोगों काे केवाईसी कराने नाम पर शिकार बनाया जा रहा है तो वहीं किसी को एटीएम डेबिट-क्रेडिट कार्ड ब्लॉक करने के बहाने ओटीपी नंबर पूछकर। इसी तरह कई लोग तो मोबाइल फोन पर मिस कॉल आने (कार्ड स्वैपिंग) के बाद ही ठगों का शिकार बन जा रहे हैं। ठगों के नए-नए पैतरों में फंसाकर लोगों के मेहनत की कमाई लूट रहे हैं।

माहिम में रहनेवाले 73 वर्षीय चार्टेड अकाउंटेंट ने अपना मोबाइल फोन अपने 12 वर्षीय पोते को दिया हुआ था। इस दौरान फोन पर एक कॉल आया, पोते ने कॉल उठाया तो सामनेवाले ने बताया कि वह बैंक से बोल रहा है। उसने उस लड़के से एक ऐप डाऊनलोड करने के लिए कहा। लड़के को कुछ समझा नहीं और उसने ऐप डाउनलोड कर लिया। उसकी मासूमियत का फायदा उठाकर ठग ने क्रेडिट कार्ड से 98 हजार रुपए की ऑनलाइन शॉपिंग कर ली। दूसरी घटना अंधेरी इलाके की है, जहां एक 45 वर्षीय महिला को केवाईसी के नाम पर ठग लिया गया। महिला को एक व्यक्ति का कॉल आया और उसने खुद को बैंक का कर्मचारी बताया। उसने महिला से कहा कि उसे बैंक खाते का केवाईसी अपडेट करने की जरूरत है, मगर इसके लिए उसे बैंक आने की जरूरत नहीं है, उसने महिला को एक लिंक भेजा और रजिस्टर करने के लिए कहा। उसके झांसे में आकर महिला ने लिंक पर क्लिक कर जानकारी साझा कर दी। इसके बाद उसके खाते से 7 लाख रुपए निकाल लिए गए। ओशिवारा में रहनेवाले एक बिजनेसमैन को पेटीएम केवाईसी के नाम पर ठग लिया गया। उसने कॉल पर जो कहा बिजनेसमैन करता गया, इसके बाद उसके खाते से 2 लाख 30 हजार रुपये निकाल लिए गए। उसने तुरंत ओशिवारा पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया। इसके अलावा शहर में अन्य साइबर फ्रॉड सामने आए हैं।
पवई- सोशल मीडिया पर महिला बनकर चैटिंग कर रहा था, दोस्ती के लिए पीड़ित ने 40 हजार रुपये भर दिए।
लोअर परेल – पेटीएम पर म्यूजिक सिस्टम मात्र 15 रुपए देने के नाम पर 1 लाख की ठगी।
चीरा बाजार – केवाईसी अपडेट करने के चक्कर में 50 हजार गवाएं।
ग्रांट रोड – अस्पताल में पैसे की जरूरत है, ऐसा कहकर 1 लाख की ठगी।