पहले ईद मनाने दो!, बाद में भले तोड़ दो मकान बेहरामपाड़ा के मुसलमानों की दुहाई

बांद्रा के बेहरामपाड़ा के मुसलमान इन दिनों तनाव में जी रहे हैं। तनाव की वजह नाला चौड़ीकरण में इनको आशियाना जाने का बताया जा रहा है। चौड़ीकरण में ५०० लोगों के स्थलांतरण किया जाना जरूरी है। प्रभावित लोग इसका विरोध कर रहे हैं। बेहरामपाड़ा के लोग संभावित तोड़क कार्रवाई को रोकने के लिए मरने-मारने को तैयार हो गए हैं। लोगों का कहना है कि कम से कम ईद तक तोड़क कार्रवाई न की जाए। बाद में मनपा प्रशासन कानूनी तौर पर जो उचित हो वह कार्रवाई कर ले, अर्थात तोड़क कार्रवाई कर सकता है।
बता दें कि बांद्रा-पूर्व स्थित शांतिलाल कंपाउंड से शुरू होकर माहिम की खाड़ी में मिलनेवाले चमड़ावाड़ी नाले में बांद्रा-खार-पूर्व एवं पश्चिम के कई छोटे-बड़े नालों का गंदा पानी एवं कचरा आकर गिरता है। मॉनसून के दौरान इस नाले के कारण बांद्रा-पूर्व के खेरवाड़ी, संजय गांधी नगर, अमृत नगर, खेरनगर एवं बेहराम पाड़ा तथा बांद्रा-खार-पश्चिम स्थित एसवी रोड से सटे इलाकों में भारी जल जमाव होता है। २६ जुलाई की प्रलयंकारी बरसात के बाद इस नाले के विस्तारीकरण की योजना मनपा प्रशासन ने बनाई थी, जो कि प्रशासन के सुस्त चाल तथा नाले के आसपास रहनेवालों के विरोध के कारण वर्षों से पूरा नहीं हो सका है। बेहरामपाड़ा स्थित कोयलेवाली गली, खेरवाड़ी बाजार रोड़, संजय गांधी नगर तथा खेरवाड़ी के लगभग ७०० से ज्यादा झोपड़ाधारकों पर विस्थापित होने का संकट मंडरा रहा है। प्रभावितों में अकेले बेहरामपाड़ा के लगभग ३०० झोपड़ाधारकों पर अपात्र होने का खतरा मंडरा रहा है। इसके अलावा मनपा प्रशासन ने बेहरामपाड़ा और संजय गांधी के लगभग १२६ परिवारों को मालाड के कांच पाड़ा इलाके में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया है। बेहराम पाड़ा के लोग इसका विरोध कर रहे हैं। शिवसेना नगरसेवक हाजी हलिम खान, सपा नगरसेवक रईस शेख सहित बेहरामपाड़ा के तमाम लोग सभी झोपड़ाधारकों को पात्र ठहराने तथा पात्र लोगों का ३ किलोमीटर के दायरे में पुनर्वसन करने की मांग करते हुए तोड़क कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं। हसन कुरैशी, लियाकत शेख, शफीक शेख आदि ने बताया कि मनपा ने पहले १ जून को तोड़क कार्रवाई के लिए हमें नोटिस दिया था, जबकि हमारा मामला सत्र न्यायालय में विचाराधीन है और सत्र न्यायालय में ७ जून को सुनवाई होनी है। इसके अलावा रमजान का महीना होने के कारण हम चाहते हैं कि ईद तक मनपा कार्रवाई को स्थगित कर दे। लोगों के विरोध तथा महापौर विश्वनाथ महाडेश्वर के हस्तक्षेप के बाद मनपा आयुक्त प्रवीण परदेशी ने १५ दिनों तक कार्रवाई न करने तथा वर्ष २०११ तक के झोपड़ाधारकों को पात्र करने का निर्णय लिया है।