पहले कर्मचारी पर हमला अब मनपा का बदला

फेरीवालों के विरुद्ध की जा रही कार्रवाई को रोकने तथा भय का माहौल बनाने के लिए हॉकर्स माफिया ने एक कर्मचारी पर जानलेवा हमला किया था। इस हमले से डरने या घबराने की बजाय माफिया को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए मनपा अतिक्रमण विभाग का दस्ता बड़े जोश के साथ सड़कों पर उतरा और फेरीवालों के दर्जनों बाकड़ों तथा हाथ गाड़ियों को जप्त कर लिया या जेसीबी के मदद से तोड़ दिया। फेरीवालामुक्त शहर होने तक बिना डरे इस तरह की कार्रवाई लगातार जारी रहेगी। यह घोषणा कर मुंब्रा अतिक्रमण विभाग ने हॉकर्स माफिया को कड़ा संदेश दे दिया है।
उल्लेखनीय है कि मुंब्रा स्टेशन से लेकर कौसा के राशिद कंपाउंड तक सड़कों या चौक-चौराहों पर धंधा करनेवाले फेरीवालों के विरुद्ध अतिक्रमण विभाग लगातार कड़ी कार्रवाई कर रहा है। डेढ़ सौ से ज्यादा हाथगाड़ियों, बाकड़ों तथा ठेलों को जप्त किया गया है या जेसीबी की मदद से मौके पर ही तोड़ दिया गया है। अतिक्रमण विभाग की इस कार्रवाई से हॉकर्स माफिया को प्रतिदिन मिलनेवाली हजारों की कमाई में पलीता लग गया है। कार्रवाई से बौखलाए माफिया ने इसे रोकने के लिए अधिकारियों को धमकी देनी शुरू कर दी। धमकी के बावजूद अधिकारियों ने जब कार्रवाई जारी रखी तब माफिया ने गत शुक्रवार को अमित गडकरी नामक एक कर्मचारी पर हमला कर दिया। इस हमले को एक सप्ताह भी नहीं बीता था कि गुरुवार को अतिक्रमण विभाग के आक्रोशित कर्मचारी तथा अधिकारी भारी सुरक्षा व्यवस्था के साथ सड़कों पर उतरे और शादी महल रोड चांद नगर रोड तथा शरीफा रोड स्थित १६ स्टाल, १० बाकड़े तथा ३१ हाथगाड़ियों को जप्त कर लिया या उसे मौके पर ही तोड़ दिया।
इसके अलावा मुंब्रा की विभिन्न जगहों पर अवैध रूप से लगाए गए ६५ बैनर को भी निकाल दिया। हमले के बाद हॉकर्स माफिया को लगा था कि डर से अधिकारी कार्रवाई रोक देंगे पर गुरुवार को की गई जोरदार कार्रवाई से उनके मंसूबों पर पानी फिर गया है।