पाकिस्तान ने बनाया पैरा टेररिस्ट स्क्वॉड! -निशाने पर मुंबई

बनने के बाद से ही पाकिस्तान का सपना रहा है कि किसी भी तरह हिंदुस्थान में अलगाववाद को हवा देकर इसे तोड़ा जाए। इसके लिए वह खुलेआम जिहाद के नाम पर आतंकियों को पालता-पोसता है और हिंदुस्थान में उनकी घुसपैठ कराके खून-खराबा कराता है। वर्ष २००८ में २६/११ को मुंबई पर हुआ आतंकी हमला सबसे भयंकर था, जिसमें करीब १७४ मौतें हुई थीं। इस हमले को अंजाम देने के लिए १० पाकिस्तानी आतंकवादी जल मार्ग से बोट के जरिए मुंबई में दाखिल हुए थे।
  आमतौर पर जमीनी रास्ते से घुसपैठ करके हिंदुस्थान आनेवाले आतंकी पाकिस्तान से चलकर समंदर के रास्ते भी मुंबई में दाखिल हो सकते हैं, यह खुफिया व सुरक्षा एजेंसियों ने सोचा तक न था। पर ऐसा २६/११ को हुआ था। इसके बाद से समंदर की चौकसी कड़क कर दी गई। दूसरी तरफ पिछले कुछ वर्षों में सेना ने कई आतंकियों को मार गिराया है, जिससे वे बौखला गए हैं। इसलिए अब पाकिस्तान ने हिंदुस्थान में घुसपैठ के लिए एक नए रास्ते की तलाश की है। यह है वायु मार्ग। इसके लिए पाकिस्तान ने अब ‘पैरा टेररिस्ट स्क्वॉड’ बनाया है। इस स्क्वॉड में शामिल आतंकियों को पाकिस्तान में पैरा ग्लाइडिंग व पैराशूट से कूदने की ट्रेनिंग दी जा रही है ताकि उन्हें हवा के रास्ते हिंदुस्थान में घुसपैठ करके हिंसा करवाई जाए। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई खासतौर पर इन आतंकियों के निशाने पर रहती है। खुफिया एजेंसियों को इस तरह के इनपुट मिलने के बाद सभी सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया है। पाकिस्तान इस वक्त बौखलाया हुआ है क्योंकि वर्ष २०१८ में करीब ३२५ पाकिस्तानी आतंकियों को हमारे जांबाज जवानों ने मार गिराया है। कल साल के आखिरी दिन भी पाकिस्तान के खूंखार ‘बैट’ के हमले को नाकाम करते हुए २ आतंकियों को मार गिराया था।
बौखलाया पाकिस्तान ताक रहा है आसमान
 हिंदुस्थानी सेना के जवान जिस बड़ी संख्या में पाकिस्तानी आतंकियों को मार गिरा रहे हैं, उससे पाकिस्तान बौखला गया है। इसके लिए हिंदुस्थान पर हमले के लिए नए हथकंडे अपना रहा है। आशंका है कि पाकिस्तान अब आतंकियों को हिंदुस्थान में घुसपैठ कराने के लिए वायु मार्ग का इस्तेमाल करेगा। इसके लिए वह आतंकियों को पैरा ग्लाइडिंग की ट्रेनिंग दे रहा है। खुफिया एजेंसियों को शक है कि रात के अंधेरे में पाकिस्तान घुसपैठ की यह हरकत कर सकता है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के खूंखार आतंकी संगठन लश्कर-ए-तोयबा के आतंकियों को पाकिस्तानी सेना पैरा ग्लाइडिंग की ट्रेनिंग दी रही है। इमरान खान ने भले ही वहां पीएम बनते वक्त हिंदुस्थान के साथ रिश्ते अच्छे करने की बात कही थी पर वह सब दिखावा था। पाकिस्तान में वही होता है जो वहां की फौज चाहती है। सच्चाई यही है कि फौज कभी भी हिंदुस्थान के साथ अमन नहीं चाहती। अतीत में ऐसे कई उदाहरण हैं कि जब भी दोनों देशों की सरकारों ने शांति प्रक्रिया के तहत बातचीत शुरू की तभी पाकिस्तान की ओर से आतंकी हमला हो गया। जम्मू-कश्मीर में तो खैर आतंकी घुसपैठ करके हमले करते ही हैं, वहां के बाहर अयोध्या, मुंबई, पठानकोट आदि शहरों को भी वे निशाना बनाते हैं।  पूर्व में मुंबई में कई आतंकी हमले हो चुके हैं। कभी बस में, कभी ट्रेन में तो कभी अपने १० साथियों के साथ कसाब ने आतंक मचा चुका है। आंकड़े बताते हैं कि वर्ष २०१७ में सुरक्षा बलों ने २१३ आतंकियों को मार गिराया जबकि कल समाप्त हुई वर्ष में    सवा तीन सौ से ज्यादा आतंकी मार गिराए गए। इनमें घुसपैठ के दौरान मारे गए आतंकियों की संख्या भी काफी है। चूंकि हिंदुस्थान की सुरक्षा एजेंसियां काफी अलर्ट हैं और आतंकियों को थल व जल से घुसपैठ करने में काफी मुश्किल हो रही है इसलिए पाकिस्तानी सेना व आईएसआई अब आसमान का मुंह देख रहे हैं।