पाकिस्तान में लव जिहाद, चीनी दूल्हाें के खिलाफ एडवाइजरी जारी हुई

हिंदुस्थान में ‘लव जिहाद’ के तहत मुस्लिम लड़के अपनी पहचान छुपाकर हिंदू लड़कियों से शादी कर उन्हें धोखा देते हैं और शादी के बाद जबरन उनका धर्म परिवर्तन करवाते हैं। मगर इसका शिकार अब खुद इस्लाम के नाम पर बना पाकिस्तान हो रहा है। वहां चीनियों ने ‘लव जिहाद’ छेड़ दिया है। चीनियों का यह ‘लव जिहाद’ इतना खतरनाक हो चुका है कि सरकार को बकायदा एडवाइजरी जारी कर लड़कियों को चीनी दूल्हों से सावधान रहने को कहा गया है।
श्ते मजबूत करने में जुटा हो लेकिन पाकिस्तानी लड़कियों के लिए चीनी दूल्हे खतरा बन गए हैं। ये चीनी दूल्हे पाकिस्तानी लड़कों से शादी करके उन्हें देह बाजार के दलदल में धकेल दे रहे हैं। यह एक तरह से ‘लव जिहाद’ जैसा है। ये चीनी लड़के मुसलमान बनकर शादी करते हैं, जबकि कम्युनिस्ट चीन में धर्म कोई खास मायने नहीं रखता। अब पाकिस्तानी सरकार ने बकायदा अपने देशवासियों को चीनी दूल्हों को लेकर एडवाइजरी (चेतावनी) जारी की है कि ऐसे निकाह से सावधान रहें।
‘गल्फ न्यूज’ की रिपोर्ट के अनुसार चीनी मर्द पाकिस्तानी लड़कियों से फर्जी शादी करते हैं और फिर उन्हें देह व्यापार के धंधे में धकेल देते हैं। बीते कुछ सालों से पाकिस्तान में शादी करके देह व्यापार में लड़कियों को ढकेलने के कई मामले सामने आए हैं। यही नहीं, पाक में मौजूद चीनी दूतावास ने भी इसे लेकर बयान जारी किए हैं। चीनी दूतावास का कहना है कि पाकिस्तानी लड़कियां गैर-कानूनी मैचमेकिंग सेंटरों से शादी तय ना करें क्योंकि ये सेंटर निजी फायदे के लिए चल रहे हैं और इससे पाकिस्तानी लड़कियों की जिंदगी खतरे में पड़ सकती है। चीनी लड़के पाकिस्तान में काम करते हुए इन गरीब लड़कियों से शादी करते हैं। वो बकायदा शादी के फर्जी दस्तावेज बनाते हैं और खुद को ईसाई या मुस्लिम समुदाय का बताकर शादी कर लेते हैं। रिपोर्ट के अनुसार चीनी लड़के पाकिस्तानी लड़कियों को शादी करके चीन ले जाते हैं और उन्हें नौकरी और आराम भरी जिंदगी के सपने दिखाते हैं। वहां लड़कियों को देह व्यापार और मानव तस्करी के दलदल में जबरदस्ती डाल दिया जाता है कई को तो चीन से दूसरे देश तक ले जाकर सेक्स व्यापार करवाया जाता है। मालूम हो कि चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर को भले ही दोनों देशों ने व्यापार को बढ़ाने के लिए बनाया हो लेकिन ये कॉरिडोर पाकिस्तान में रह रहे लोगों के लिए परेशानी बन गया है। २०१५ से कई चीनी नागरिक इस कॉरिडोर के बनने के बाद से पाकिस्तान में रह रहे हैं। इनमें से कुछ ने तो घर और संपत्तियां भी यहां खरीद ली हैं। लेकिन व्यापार के आड़ में कुछ लोग देह व्यापार और अंग तस्करी को भी यहां बढ़ावा दे रहे हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार कुछ मामले सेक्स व्यापार के अलावा मानव अंगों की तस्करी के भी सामने आए हैं। मध्य पूर्व समेत कई देशों में पाकिस्तानी लड़कियों को अंग तस्करी के लिए भी इस्तेमाल किया गया। हालांकि ऐसी घटनाओं के सामने आने के बाद अब पाकिस्तान और चीन दोनोें ही सख्त कदम उठा रहे हैं। दोनों सरकारों ने बकायदा नोटिस जारी करके कार्रवाई की है। आम लोगों के बीच भी जागरूकता पैâलाई जा रही है।