पाक नहीं कश्मीर में किया गया था बालाकोट अटैक

राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने बालाकोट हमले के संबंध में नई खोज की है। इस खोज में पवार ने पाया है कि आंतकवादियों के खिलाफ बालाकोट में जो हमला किया गया था, वह हमला बालाकोट में नहीं बल्कि कश्मीर में किया गया था। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने आतंकवाद के मुद्दे पर ‘घर में घुसकर मारेंगे’ नारे से खूब सुर्खियां बटोरीं जबकि हकीकत यह है कि मोदी सरकार द्वारा आतंकवाद के खिलाफ की गई कार्रवाई पाकिस्तान में नहीं, बल्कि कश्मीर में की गई थी। कश्मीर के पुलवामा हमले में ४० जवान शहीद हो गए थे। उसके बाद भारतीय वायुसेना ने बदला लिया था। वायुसेना ने जैश ए मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को निशाना बनाते हुए पाकिस्तान के बालाकोट में हमला किया था। पवार ने कहा कि जनता ने प्रधानमंत्री मोदी को इसलिए पसंद किया क्योंकि उनकी सरकार ने दुश्मन को उनके घर में घुसकर मारा। पवार ने कहा कि यह हमला पाकिस्तान में नहीं बल्कि कश्मीर में हुआ था और कश्मीर हिंदुस्थान का हिस्सा है। मोदी सरकार ने कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों को रोकने के लिए जो भी कदम उठाए, उसका मतलब ये नहीं है कि पाकिस्तान में प्रवेश किया। नियंत्रण रेखा और वहां की स्थिति के बारे में लोगों को जानकारी नहीं है इसलिए लगा कि पाकिस्तान के खिलाफ कुछ कार्रवाई की गई है, ऐसा पवार ने कहा। एक विशेष समुदाय के प्रति विरोध पैदा करने के लिए यह सब किया गया, जिसका फायदा भाजपा को मिला। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर पवार ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि अर्जुन की तरह अपना पूरा लक्ष्य विधानसभा चुनाव जितने पर लगाएं।