पाक परस्तों को हिंदुस्थानी सुरक्षा नहीं, अलगाववादियों पर हंटर

पुलवामा में हुए हमले के बाद सरकार ने बड़ा निर्णय लेते हुए कश्मीर के पाक परस्त और अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा व्यवस्था हटा ली है। इस संबंध में गृह मंत्रालय ने आदेश जारी किया है। जिसके बाद जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने हुर्रियत और अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक, अब्दुल गनी बट्ट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी, शब्बीर शाह की सरकारी सुरक्षा वापस ले ली। इसके अलावा इन नेताओं को मिलने वाली सभी सरकारी सुविधाएं भी छीन ली हैं। इस आदेश में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का नाम नहीं है।
बता दें कि, इन अलगाववादी नेताओं को राज्य सरकार ने लगभग 10 साल पहले सुरक्षा मुहैया कराई थी, जब ये नेता घाटी में कथित तौर पर आतंकियों के निशाने पर थे। जम्मू-कश्मीर प्रशासन के इस आदेश के बाद इन्हें राज्य सरकार की ओर से मिली गाड़ियां, कारें वापस ले ली जाएंगी। सरकारी सूत्रों ने कहा कि पुलिस इस बात की समीक्षा करेगी कि क्या इन पांच अलगाववादी नेताओं के अलावा किसी दूसरे अलगाववादी नेता को सरकारी सुरक्षा मिली है, अगर समीक्षा में ऐसे किसी भी नेता का नाम आता है तो उसकी भी सुरक्षा और सरकारी सुविधा वापस ली जाएगी।