पानी की अजब कहानी, कमाई कम, खर्च ज्यादा

रु. १०८ करोड़ व्यय , रु. ८० करोड़ आय
हर आदमी को २०० लीटर पानी दे रही मनपा
नई मुंबईकरों को पर्याप्त रूप से पानी देने में नई मुंबई मनपा सक्षम साबित हो रही है। राज्य के कई जगहों पर सूखा पड़ने की वजह से पानी को लेकर हाहाकार मचा है। उम्मीद की जा रही है कि इस वर्ष बरसात भरपूर होगी तथा सूखे से लोगों को राहत मिलेगी। वहीं नई मुंबई मनपा क्षेत्र में हर व्यक्ति को २०० लीटर पानी प्रतिदिन दे रही है। नई मुंबई मनपा के पास स्वत: का मोरबे जलाशय होने के कारण बहुतांश इलाके में २४ घंटे जलापूर्ति की जाती है। एमएमआईडीसी इलाके में बने झोपड़पट्टी भाग में बारवी जलाशय से पानी की सप्लाई की जाती है। पानी के बिल से मिलनेवाली रकम, लागत की अपेक्षा कम होने के कारण मनपा उदासीन नजर आ रही है। जानकारी के अनुसार मनपा को प्रति वर्ष पानी के बिल से ८० करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त होता था तथा पानी की देखभाल एवं दुरुस्तीकरण में कुल १०८ करोड़ रुपए खर्च करना पड़ता है। कुल २८ करोड़ रुपए का फटका मनपा को सहन करना पड़ता है। जानकारी के अनुसार व्यावसायिक इस्तेमाल में ३० रुपए प्रति घन लीटर, निवासी जगह पर ४ रुपए ७५ पैसे प्रति घन लीटर तथा ट्रस्ट, संस्था के लिए ११ रुपए प्रति घन लीटर की दर से पानी का बिल वसूला जाता है। नई मुंबई मनपा आयुक्त डॉ. रामास्वामी एन ने बताया कि नई मुंबई मनपा के क्षेत्र में पानी की दर कम है। अनेक वर्षों से पानी के बिल में बढ़ोत्तरी नहीं किए जाने से पानी के बिल से प्राप्त रकम तथा खर्चे का तालमेल नहीं जम रहा है। ज्ञात हो कि पिछले १५ वर्षों से पानी की दर में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है।