पानी के मनमाने बिल से इंडस्ट्री धारकों में हड़कंप

मीरा-भाइंदर मनपा ने वाणिज्यिक उपयोग के पानी बिल में करीब ५ से १० गुना की वृद्धि कर दी है। बिल की रकम अधिक बढ़ाकर भेजे जाने से इंडस्ट्री धारकों में हड़कंप मच गया। उन्होंने मनपा प्रशासन को चेतावनी दी है कि वे पानी विभाग द्वारा भेजे गए अनुमानित बिल नहीं अदा करेंगे। साथ ही ज्यादती करने पर अपने उद्योग को अन्य शहरों में स्थानांतरित करने की धमकी भी दी है।
मीरा-भाइंदर के लघु उद्योग धारकों ने `दोपहर का सामना’ को बताया कि पहले आधा इंच व्यास के पानी कनेक्शन का चार माह का बिल ३ से ४ हजार रुपए तथा एक इंच व्यास के पानी कनेक्शन का ४ से ५ हजार रुपए के आस-पास पानी के इस्तेमाल के आधार पर पहले बिल आता था। इस बार मीटर फॉल्ट बताकर ० (शून्य) रीडिंग बिल में दिखाई गई है और मनमाने तरीके से ५ से १० गुना बिल बढ़ाकर भेजा गया है।
आधा इंच व्यास के पानी कनेक्शन के बिल की रकम १० से १२ हजार रुपए तथा एक इंच व्यास के पानी कनेक्शन की ४० से ४५ हजार रुपए के आस-पास का बिल इंडस्ट्री धारकों को अदा करने के लिए भेजा गया है। वहीं बिल में की गई वृद्धि को पानी विभाग ७ से ८ करोड़ रुपए के घाटे की पूर्ति का कारण बता रही है, वहीं इस संबंध में पानी विभाग के कार्यकारी अभियंता सुरेश वाकोडे का कहना है कि जब झोपड़पट्टी में रहनेवालों का आधा इंच व्यास के पानी कनेक्शन का चार माह का बिल १५ सौ से २ हजार रुपए आता है तो इंडस्ट्रीधारकों का आधा इंच पानी कनेक्शन का १० से १२ हजार रुपए और एक इंच पानी कनेक्शन का ४० से ४५ हजार रुपए का बिल अधिक नहीं है। पहले १० रुपए प्रति हजार लीटर पानी की दर १३ रुपए हो गई है। वाणिज्यिक पानी दर ५० रुपए प्रति एक हजार लीटर है।