पालघर में युति का भगवा!, शिवसेना के २८ में से १४ विजयी

पालघर नगरपरिषद चुनाव में शिवसेना-भाजपा युति ने २८ जगहों में से २१ जगहों पर धमाकेदार जीत हासिल कर भगवा लहरा दिया। नगरपरिषद में शिवसेना के १४ और भाजपा के ७ नगरसेवक चुनकर आए। सभी १४ प्रभाग में पैनल पद्धति द्वारा किए गए इस चुनाव में कुल ५ निर्दलीय चुनकर आए हैं। कांग्रेस, राष्ट्रवादी, बहुजन विकास आघाड़ी जैसी बड़ी पार्टियां मुंह के बल गिर पड़ी हैं। राष्ट्रवादी के २ नगरसेवकों को जीत हासिल हुई। बहुजन विकास आघाड़ी और कांग्रेस पार्टी अपना खाता तक नहीं खोल पाई। मनसे का इंजिन भी पालघरवासियों ने बंद कर उसका कद्दू बना दिया। नगरपरिषद में शिवसेना के सबसे बड़ा दल बनने के साथ ही युति को स्पष्ट बहुमत मिला। नगराध्यक्ष पद का चुनाव सीधे जनता द्वारा किया गया इसलिए युति की उम्मीदवार डॉ. श्वेता पाटील को हार का सामना करना पड़ा। नगराध्यक्ष पद पर डॉ. उज्ज्वला काले को जीत हासिल हुई है।
पालघर नगर परिषद चुनाव के लिए २४ मार्च को मतदान किया गया था। मतों की गिनती २५ मार्च को शुरू हुई, जिसमें शिवसेना-भाजपा युति के दो उम्मीदवार पहले ही निर्विरोध चुनकर आए और इस प्रकार युति ने अपना खाता खोला। नगराध्यक्ष पद सहित २९ जगहों के लिए कुल ९१ उम्मीदवारों ने अपना नसीब आजमाया था। इनमें शिवसेना के १९ और भाजपा के ९ उम्मीदवार शामिल थे। शिवसेना के १९ उम्मीदवारों में से कुल १४ उम्मीदवारों को जीत मिली। भाजपा के ६ उम्मीदवार पहली बार चुनकर आए। इस जीत से पालघर नगरपरिषद में शिवसेना की सत्ता कायम है।