पियक्कड़ों के अच्छे दिन

महंगाई और र्इंधन के दामों में हुई बेतहाशा वृद्धि से भले आम आदमी को तत्काल राहत न मिले लेकिन सरकार राज्य के पियक्कड़ों के लिए जल्द ही अच्छे दिन लाने की तैयारी में है। सरकार जल्द ही सालभर के ९ ड्राई डे को कम करनेवाली है। उक्त मांग महाराष्ट्र के ‘वाइन मर्चेंट एसोसिएशन’ ने आबकारी विभाग से की है।
बता दें कि सरकारी गजेट के मुताबिक साल के कुल ३६५ दिनों में से ९ दिन ड्राई डे निर्धारित किए गए हैं। २६ जनवरी (गणतंत्र दिवस), ३० जनवरी (शहीद दिवस), १ मई महाराष्ट्र दिवस, १५ अगस्त स्वतंत्रता दिवस, २ अक्टूबर गांधी जयंती, ८ अक्टूबर गांधी जयंती सप्ताह का आखिरी दिन, अनंत चतुर्दशी, आषाढ़ी एकादशी और कार्तिकी एकादशी के दिन वाइन शॉप, बीयर बार और परमिट रूम बंद रहते हैं। इसके अलावा कलेक्टर के आदेशानुसार ड्राई डे घोषित किया जाता है। ‘वाइन डीलर्स एसोसिएशन’ के अध्यक्ष दिलीप जियनानी ने बताया कि शहरों में वाइन लाइसेंस की जो फीस है, वह काफी है। ऐसे में सरकार द्वारा एलान किए गए कुछ ड्राई डे का कोई महत्व नहीं है। उदाहरण के तौर पर ८ अक्टूबर के अलावा भी कई बार कलेक्टर द्वारा ड्राई डे घोषित किया जाता है। नतीजतन हमारा और सरकार, दोनों का नुकसान होता है इसलिए हमने सरकार से निवेदन किया है कि ड्राई डे के दिनों को कम किया जाए। गौरतलब है कि मुंबई कुल ६५० वाइन शॉप हैं जबकि पूरे महाराष्ट्र में १,५५०। इस संदर्भ में आबकारी विभाग के सूत्रों की मानें तो सरकार ड्राई डे के दिनों में कटौती करने को लेकर विचार कर रही है। ड्राई डे कम होते हैं तो जाहिर सी बात है कि शराब प्रेमियों के लिए वाकई अच्छे दिन होंगे।